नई दिल्ली, जागरण संवाददाता। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि संविधान की प्रस्तावना उसकी मूल आत्मा है। संविधान को बचाए रखना हम 130 करोड़ भारत वासियों की जिम्मेदारी है। जब-जब देश कठिन परिस्थितियों से गुजरेगा, यह संविधान हमारी रक्षा करेगा। वह शनिवार को दिल्ली सरकार की ओर से मॉडल टाउन के छत्रसाल स्टेडियम में आयोजित गणतंत्र दिवस समारोह में बतौर मुख्य अतिथि बोल रहे थे। उन्होंने देश वासियों को गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं दी और ‘हम होंगे कामयाब एक दिन’ गीत गाकर भारत को दुनिया का नेतृत्व करने वाला देश बनाने के लिए एकजुट होने की अपील की। उन्होंने कहा कि आज हम गणतंत्र दिवस की 70वीं वर्षगांठ मना रहे हैं।

आज से 70 साल पूर्व 26 जनवरी 1950 को हमारे देश का संविधान लागू हुआ था, जिसे स्वतंत्रता सेनानियों ने बनाया था। करोड़ों लोगों ने देश को आजाद कराने के लिए कुर्बानियां दी थीं। ऐसे लोगों ने आजाद भारत का एक सपना देखा था। उस भारत को उन्होंने संविधान में संजोया था। इस संविधान को बचाए रखने की जिम्मेदारी हम सब भारतवासियों की है। मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारी सरकार ने दिल्ली में शिक्षा और स्वास्थ्य में कायाकल्प किया। बिजली 200 यूनिट फ्री की। महिलाओं का बसों में सफर मुफ्त किया। इससे हर आदमी की जेब में बचत होती है और विकास का पहिया घूमता है। उन्होंने कहा कि आठ फरवरी को दिल्ली में मतदान होगा।

अभी आचार संहिता लागू है। हर वर्ष गणतंत्र दिवस के मौके पर वह लोगों से बहुत सारी बातें किया करते थे, लोगों के सवालों के जवाब देते थे। लेकिन आचार संहिता की वजह से आज हमारी उतनी बातें नहीं हो सकेंगी। छत्रसाल स्टेडियम में परेड के दौरान सलामी मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल मौजूद रहे। इस दौरान छत्रसाल स्टेडियम में सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किए।

Posted By: Pooja Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस