नई दिल्ली, प्रेट्र। दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने बुधवार को कहा कि दिल्ली समेत देश भर में ऑक्सीजन की कमी के कारण कई मौतें हुई हैं। केंद्र सरकार का यह कहना पूरी तरह से गलत है कि ऑक्सीजन गैस के अभाव में किसी की मौत नहीं हुई। सत्येंद्र जैन ने कहा कि अगर ऑक्सीजन की कमी के कारण कोई मौत नहीं हुई, तो अस्पताल हर दिन एक के बाद एक हाई कोर्ट क्यों गए? अस्पताल कह रहे थे कि ऑक्सीजन की कमी से मौतें हुईं। मीडिया ने भी इस मुद्दे को रोजाना उठाया। उन्होंने कहा, टेलीविजन चैनलों और समाचार पत्रों ने बताया कि कैसे अस्पतालों में ऑक्सीजन की कमी हो गई। यह कहना पूरी तरह गलत है कि ऑक्सीजन की कमी से देशभर में किसी मरीज की मौत नहीं हुई।

स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि दिल्ली और देश भर में कई अन्य जगहों पर ऑक्सीजन की कमी के कारण कई मौतें हुई हैं। यह वास्तव में दुखद और दुर्भाग्यपूर्ण था।

केंद्र ने ऑक्सीजन की कमी से मौत का आंकड़ा नहीं मांगाः सत्येंद्र जैन

सत्येंद्र जैन ने कहा कि केंद्र ने ऑक्सीजन की कमी से मौतों से संबंधित आंकड़े नहीं मांगे, लेकिन दिल्ली सरकार ने पैनल बनाकर खुद ही संख्या का पता लगाने की कोशिश की। उन्होंने आरोप लगाया, "दिल्ली सरकार ने इस तरह की मौतों पर डेटा एकत्र करने और मृतकों के परिवारों को 5 लाख रुपये का मुआवजा देने के लिए एक समिति का गठन किया था। लेकिन केंद्र ने उपराज्यपाल के माध्यम से पैनल को भंग कर दिया। मंत्री ने कहा, "अन्यथा, हमें सटीक डेटा मिल जाता कि दिल्ली में ऑक्सीजन की कमी के कारण कितने लोगों की मौत हुई। सत्येंद्र जैन ने कहा कि मुझे लगता है कि केंद्र ने पैनल को इसलिए भंग कर दिया ताकि वे कह सकें कि ऑक्सीजन संकट के कारण किसी की मौत नहीं हुई।"

लोगों के घावों पर नमक छिड़क रही है केंद्र सरकारः सत्येंद्र जैन

ऑक्सीजन से कमी से मौतों की रिपोर्ट पर केंद्र के बयान का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि केंद्र सरकारी उन लोगों के घावों पर नमक छिड़क रही है जिन्होंने अपने प्रियजनों को खो दिया है। कल, वे कहेंगे कि कोविड ​​​​-19 के कारण कोई मौत नहीं हुई है।

Edited By: Mangal Yadav