नई दिल्ली, जागरण संवाददाता। Delhi Coronavirus News Update: केंद्रीय गृह मंत्रालय ने दिल्ली में डोर टू डोर स्क्रीनिंग पर फिलहाल रोक लगा दी है। यह निर्णय कंटेनमेंट (सील) किए जाने वाले जोन की बढ़ती संख्या को देखते हुए लिया गया है। अब कंटेनमेंट जोन में डोर टू डोर सर्वे और सिरोलॉजिकल सर्वे को प्राथमिकता दी जाएगी। दिल्ली सरकार के एक अधिकारी ने बताया कि केंद्रीय गृह मंत्रालय ने समीक्षा में पाया कि कंटेनमेंट जोन में डोर टू डोर स्क्रीनिंग और सिरोलॉजिकल सर्वे के बाद ही बाकी दिल्ली में कोई कार्रवाई की जाएगी।

राजधानी में कोरोना के बढ़ रहे प्रकोप को देखते हुए केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने 21 जून को बैठक बुलाकर संक्रमण रोकने के लिए नए सिरे से काम करने की बात कही थी। गृह मंत्रालय ने डॉ. वीके पॉल समिति गठित की थी। समिति की सिफारिशों पर दिल्ली सरकार के डॉयरेक्टर जनरल ऑफ हेल्थ सíवसेस ने प्लान जारी किया था। इसके अंदर कंटेनमेंट जोन का रिव्यू और रीमैपिंग व रीडिजाइनिंग 26 जून तक करने के आदेश थे, ताकि बेहतर प्रबंधन और मॉनीटरिंग हो सके।

वहीं, कोरोना संक्रमण के फैलाव का पता लगाने के लिए 27 जून से 10 जुलाई तक सिरोलॉजिकल सर्वे, कंटनेमेंट जोन के अंदर के घरों की डोर टू डोर स्क्रीनिंग और बाकी दिल्ली के घरों की डोर टू डोर स्क्रीनिंग 6 जुलाई तक पूरा करने की समय सीमा तय की गई थी। इस पर कई जिलों में काम भी शुरू हो गया था। इस समय कंटेनमेंट जोन के रिव्यू में दिल्ली में कंटेनमेंट जोन की संख्या 280 से बढ़कर 440 के करीब पहुंच गई है।

दिल्ली में इस समय सबसे अधिक कंटेनमेंट जोन दक्षिण- पश्चिमी जिले में हैं, जिनकी संख्या 80 है। नंबर दो पर दक्षिणी जिला है। यहां 60 कंटेनमेंट जोन हैं। वहीं उत्तरी जिले में 54 कंटेनमेंट हो गए हैं। सबसे कम 8 कंटेनमेंट जोन उत्तर-पूर्वी जिले में हैं।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस