गुरुग्राम [जेएनएन]। डेंगू पीडि़त सात वर्षीय बच्ची आद्या की मौत के मामले में गुरुग्राम (हरियाणा) के फोर्टिस अस्पताल के शिशु रोग विभाग के सीनियर कंसलटेंट डॉ. विकास वर्मा के खिलाफ शनिवार देर रात केस दर्ज कर लिया गया। शिकायत मुख्य चिकित्सा अधिकारी (सीएमओ) डॉ. बीके रजौरा ने दी थी। डॉक्टर पर आद्या को वेंटिलेटर से हटाने का आरोप है।

इलाज में लापरवाही बरतने की बात

बता दें कि हरियाणा सरकार ने अतिरिक्त स्वास्थ्य महानिदेशक डॉ. राजीव वढेरा की टीम से मामले की जांच कराई थी। चार दिन पहले आई 50 पन्नों की रिपोर्ट में इलाज में लापरवाही बरतने की बात सामने आई थी। रिपोर्ट को आधार बना कर सीएमओ ने केस दर्ज करने की सिफारिश की। हरियाणा के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने रविवार सुबह ट्वीट कर केस दर्ज करने की जानकारी दी।

गिरफ्तार भी किया जा सकता है

बच्ची के पिता जयंत ने 17 नवंबर को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा को ट्विटर पर अपने साथ घटित घटना की जानकारी दी थी। इसके बाद मंत्री ने स्वास्थ्य विभाग को जांच व कार्रवाई करने के आदेश दिए थे। थाना प्रभारी, सुशांत लोक इंस्पेक्टर गौरव का कहना है कि आरोपों के मुताबिक यह जानबूझ कर की गई लापरवाही से मौत का मामला बनता है। डॉ. विकास वर्मा के खिलाफ आइपीसी की धारा-304 पार्ट टू (गैर इरादतन हत्या) के तहत केस दर्ज किया गया है। जांच चल रही है। अभियुक्त को गिरफ्तार भी किया जा सकता है।

स्वास्थ्य मंत्री के ट्वीट व एफआइआर में अंतर

हरियाणा के स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने रविवार सुबह 8:27 बजे ट्वीट कर बताया कि फोर्टिस अस्पताल प्रबंधन के खिलाफ गुरुग्राम के सुशांत लोक थाने में स्वास्थ्य विभाग की ओर से एफआइआर संख्या 639 दर्ज कराई गई है। जबकि एफआइआर में फोर्टिस अस्पताल गुरुग्राम के शिशु रोग विभाग के सीनियर कंसलटेंट डॉ. विकास वर्मा को अभियुक्त बनाया गया है।

यह भी पढ़ें: मैक्स से बर्खास्त डॉ. एपी मेहता का बयान, बोले- परिजनों को दी गई थी पूरी जानकारी

यह भी पढ़ें: आंटी कहा तो भड़क गई नर्स, बुला ली पुलिस, आगे क्या हुआ...पढ़ें खबर

 

Posted By: Amit Mishra

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस