नई दिल्ली [शुजाउद्दीन]। वेलकम इलाके में रंगदारी न देने पर कारोबारी पर गोलियां बरसाने वाले बदमाश को सवा महीने की मशक्कत के बाद पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। बदमाश की पहचान इमरान उर्फ तेली के रूप में हुई है। वह वेलकम थाना क्षेत्र का घोषित बदमाश है। दिल्ली दंगे के एक मामले में कुछ महीने पहले ही जमानत पर बाहर आया था।

पुलिस इससे पूछताछ कर मामले की जांच कर रही है। जिला पुलिस उपायुक्त संजय कुमार सेन ने बताया कि तीन सितंबर को मोहम्मद यासिर नाम के एक कारोबारी पर बदमाशों ने गोलियां चलाई थी। पीड़ित ने पुलिस को बताया था वह किसी काम से जा रहे थे, जाफराबाद के रहने वाले इमरान ने अपने एक साथी शाहिद के साथ गली में उनका रास्ता रोक लिया। इमरान उनसे रंगदारी मांगने लगा, उन्होंने रंगदारी देने से मना किया तो दोनों बदमाशों ने उन पर गोलियां चला दी।

पीड़ित ने वहां से किसी तरह भागकर अपनी जान बचाई। वारदात के बाद से ही आरोपित फरार चल रहे थे। वेलकम थाना पुलिस को गुप्त सूचना मिली कि इमरान अलीपुर इलाके में छिपा हुआ है, पुलिस ने वहां छापेमारी करके उसे दबोच लिया। पुलिस को जांच में पता चला इमरान दिल्ली दंगे में भी शामिल रहा था, वह दंगे के मामलों में जेल गया था। कुछ महीने पहले ही जमानत पर बाहर आया था, जेल से आने के बाद वह अपराध करने लगा था। उसके खिलाफ पहले से पांच केस दर्ज है।

किशोरों को सिगरेट बेचने वाले दुकानदार किया गिरफ्तार

वहीं, जनकपुरी थाना पुलिस ने किशोरों को सिगरेट बेचने के आरोप में एक दुकानदार को गिरफ्तार किया है। आरोपित का नाम रवि है। आरोपित के खिलाफ स्थानीय लोगों की ओर से पुलिस को शिकायत दी गई थी कि यह दुकानदार कम उम्र के बच्चों को सिगरेट-तंबाकू बेचता है।

पुलिस ने सच्चाई का पता लगाने के लिए एक किशोर के स्वजन से संपर्क कर उनसे यह आग्रह किया कि वह उसे दुकान में एक ग्राहक बनाकर भेजें। स्वजन मान गए, इसके बाद किशोर को दुकान पर सिगरेट खरीदने को भेजा गया। बच्चे को 10-10 रुपये के नोट दिए। बच्चे ने दुकानदार से सिगरेट की मांग की। जैसे ही दुकानदार ने सिगरेट दिया, पुलिस ने आरोपित दुकानदार को दबोच लिया।

 

Edited By: Prateek Kumar