नई दिल्ली [रजनीश कुमार पाण्डेय]। दक्षिण-पूर्वी जिले की गोविंदपुरी थाना पुलिस ने जीजा की हत्या करने वाले आरोपित साले मंजर आलम को राजस्थान से किशनगढ़ से गिरफ्तार किया है। आरोपित का कहना है कि उसका जीजा सज्जाद (मृतक) उसकी बहनों को परेशान कर रहा था।

आरोपित ने कहा कि जीजा उधार लिए साढ़े चार लाख रुपये भी वापस नहीं दे रहा था। पुलिस उसे रिमांड पर लेकर हत्या में इस्तेमाल किए गए चाकू को बरामद करने का प्रयास कर रही है।

ये भी पढ़ें- Delhi-Rohtak रेलवे लाइन पर मालगाड़ी की बोगियां उतरने से रेल यातायत प्रभावित, कैंसिल हुई ट्रेनों की देखें लिस्ट

मृतक ने की थी दो शादियां

दक्षिण-पूर्व जिला पुलिस अधिकारियों के अनुसार, मृतक सज्जाद गोविंदपुरी की गली नंबर-7 में दूसरी पत्नी के साथ रहता था। उसकी पहली पत्नी बिहार के एक गांव में रहती है। आरोपित सज्जाद ने अपनी दूसरी पत्नी को भी छोड़ दिया था और वह दूसरी पत्नी की छोटी बहन के साथ रह रहा था। वह छोटी बहन को भी परेशान करता था।

साढ़े चार लाख रुपये नहीं कर रहा था वापस

इस बात से उसका साला मंजर आलम परेशान रहता था। उसने सज्जाद को साढ़े चार लाख रुपये उधार दे रखे थे। सज्जाद उसके पैसे वापस नहीं कर रहा था। इसी के चलते मंजर आलम ने सात मई को चाकू से ताबड़तोड़ वार कर सज्जाद की हत्या कर दी थी। उसने सज्जाद पर चाकू से सात से आठ वार किए थे।

ये भी पढ़ें- Rapid Rail Trial: भारत की पहली रैपिड रेल ट्रायल में सरपट दौड़ी, अगले साल हो जाएगी शुरू; देखें तस्वीरें

एसीपी प्रदीप कुमार की देखरेख में गोविंदपुरी थानाध्यक्ष जगदीव यादव, इंस्पेक्टर योगेंद्र कुमार, एसआई तालिब चौधरी, सिपाही धर्मेन्द्र व सुनील की टीम ने आरोपी की तलाश शुरू की। इस टीम ने करीब दो महीने की तफ्तीश के बाद एसआई तालिब चौधरी की टीम ने मंजर आलम को राजस्थान के किशनगढ़ से गिरफ्तार कर लिया। आरोपित किशनगढ़ में प्राइवेट जाब कर रहा था। वह फरारी के दौरान कई राज्यों में घूमता रहा।

Edited By: Geetarjun