नई दिल्ली [संजय सलिल]। रोहिणी इलाके में स्थित अस्पताल की महिला निदेशक व डॉक्टर का शव सोसायटी के गेट नंबर दो के पास कार से बरामद हुआ है। दोनों की गोली लगने से मौत हुई है। पुलिस का मानना है कि निदेशक को गोली मारने के बाद डॉक्टर ने खुद को गोली मारी है। रोहिणी जिले के पुलिस उपायुक्त एसडी मिश्र ने बताया कि प्रारंभिक जांच में दोनों के बीच विवाहेत्तर संबंध होने की जानकारी मिली है। पुलिस ने शव कब्जे में लेकर मामले की जांच शुरू कर दी है।

पुलिस के मुताबिक 65 वर्षीय डॉ. ओम प्रकाश कुकरेजा (ओपी कुकरेजा) परिवार के साथ सेक्टर 13 स्थित रंग रसायन अपार्टमेंट में रहते थे और सेक्टर 15 स्थित निर्वाणा अस्पताल को चलाते थे। उनके ही अस्पताल में सेक्टर 18 निवासी सुदीप्ता मुखर्जी (55) प्रबंध निदेशक थीं। मंगलवार की रात दोनों एक शादी समारोह में गए थे। इसके बाद बुधवार की सुबह करीब पौने आठ बजे दोनों के शव कार में मिलने की पुलिस को सूचना मिली। प्रशांत विहार थाना पुलिस जब मौके पर पहुंची तो कार के दरवाजे अंदर से बंद थे। डॉ कुकरेजा का शव चालक की सीट पर, जबकि सुदीप्ता पास वाली सीट पर औंधे मुंह पड़ी थीं। पुलिस ने कार का शीशा तोड़कर दोनों के शवों को बाहर निकाला। डॉ. कुकरेजा की कनपटी में गोली लगी थी, जबकि सुदीप्ता के सीने पर गोली लगी थी। रिवॉल्वर ड्राइविंग सीट के नीचे कार में पड़ी हुई थी। जांच में रिवॉल्वर का लाइसेंस डॉ. कुकरेजा के नाम पर निकला है।

उनके परिवार में दिव्यांग (दृष्टिबाधित) पत्नी के अलावा एक बेटा व बेटी हैं। बेटा अखिल कुकरेजा का देहरादून में अस्पताल है, जबकि बेटी यमुना विहार में डॉक्टर हैं। परिस्थितिजन्य साक्ष्यों के आधार पर पुलिस का मानना है कि वारदात रात 12 बजे के बाद हुई है।

दरअसल, पुलिस को जानकारी मिली है कि शादी समारोह से दोनों को करीब 12 बजे निकलते कुछ लोगों ने देखा था। ऐसे में इसके बाद ही घटना का अनुमान लगाया जा रहा है। पुलिस फिलहाल इस मामले को हत्या के बाद खुदकशी मानकर जांच कर रही है। इसके लिए पुलिस सीसीटीवी कैमरे की फुटेज भी खंगाल रही है।

दिल्ली-एनसीआर की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां पर करें क्लिक

Posted By: JP Yadav

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस