नई दिल्ली, जेएनएन। भाजपा का कहना है कि दिल्ली विधानसभा चुनाव में 70 में से 67 सीटें जीतने वाली आम आदमी पार्टी (आप) का असली चेहरा सामने आ गया है। लोगों ने अब आप को पूरी तरह से नकार दिया है, इसलिए वह कांग्रेस की बैसाखी के सहारे लोकसभा चुनाव लड़ना चाहती है। दिल्ली प्रदेश भाजपा अध्यक्ष मनोज तिवारी ने कहा कि उनकी पार्टी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में 'सबका साथ सबका विकास' के मूल मंत्र के आधार पर किए गए कार्यो पर लोकसभा चुनाव लड़ेगी।

कांग्रेस से समझौते की कोशिश हो रही
आप अपनी संभावित हार से इतनी डरी हुई है कि वह अकेले चुनाव लड़ने की हिम्मत नहीं जुटा पा रही है। वह कांग्रेस के साथ समझौते की कोशिश में करती रही है। मनोज तिवारी ने कहा कि अरविंद केजरीवाल सरकार दिल्ली में विकास कार्यो को छोड़कर केवल आरोप-प्रत्यारोप व दुष्प्रचार की राजनीति कर जनता को गुमराह करती रहती है।

पूरा नहीं हुआ विधानसभा चुनाव का वादा
विधानसभा चुनाव में किया गया एक भी वादा पूरा नहीं हुआ है, जिससे जनता में आक्रोश है और वह इसका जवाब आगामी लोकसभा चुनाव में देगी। दिल्ली विधानसभा के नेता प्रतिपक्ष विजेंद्र गुप्ता ने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी की जनकल्याणकारी नीतियों से विचलित होकर सभी विरोधी दल एक होने के लिए आतुर दिख रहे हैं।

गठबंधन की हो रही तैयारी 
इसी कड़ी में आप दिल्ली में कांग्रेस के साथ गठबंधन करने के लिए लगातार प्रयास कर रही थी। अतिमहत्वाकांक्षा के कारण दोनों दलों में यह अनैतिक गठबंधन नहीं हो सका। केजरीवाल ने जनता के हित के लिए कोई भी ऐसा कार्य नहीं किया, जिसको लेकर वह चुनाव में जनता के बीच पार्टी का पक्ष रख सकें। नगर निगम चुनाव में उनकी पार्टी बुरी तरह से हार चुकी है, इसलिए लोकसभा चुनाव के लिए उन्हें बैसाखी की जरूरत पड़ रही है।

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप