गाजियाबाद, जेएनएन। मसूरी में भाजपा के डासना मंडल अध्यक्ष डॉ. बीएस तोमर की 20 जुलाई की रात को हुई हत्या की साजिश रोहिणी जेल में रची गई थी। जिस किशोरी के अपहरण के मामले में भाजपा नेता ने दूसरे पक्ष की पैरवी की थी, उसका पिता हारुन रोहिणी जेल में लूट के मामले में लंबे समय से बंद है।

बेटी को दूसरे धर्म के लड़कों द्वारा बहलाकर ले जाने की बात सुन हारुन ने जेल में मुलाकात को पहुंचे बेटे अमन कुरैशी के साथ बीएस तोमर की हत्या की साजिश रची। हत्या से ठीक पहले हारुन आठ व 15 जुलाई को रोहिणी जेल से पैरोल पर घर भी आया था। पांच दिन बाद ही बीएस तोमर की पांच गोली मारकर हत्या कर दी गई।

घटना के अगले ही दिन शाहरुख व तहसीम की गिरफ्तारी के बाद गाजियाबाद पुलिस ने मंगलवार को हत्याकांड में दो महिला और इससे जुड़े दूसरे मामले में तीन व्यक्ति को गिरफ्तार किया है।

15 घंटे में पुलिस ने किया था पर्दाफाश
मसूरी के दूधिया पीपल में 20 जुलाई की रात नौ बजे अपना क्लीनिक बंद कर सामने वाले खोके पर सिगरेट पीने के लिए खड़े बीएस तोमर को स्कूटी सवार हमलावरों ने गोलियों से भून दिया था। उनके सिर व पीठ में दो और पसलियों में एक गोली मारी गई थी। अस्पताल ले जाने पर डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया था। आरोपित स्कूटी छोड़ फरार हो गए थे, जो डासना के शाहरुख की थी।

आइजी जोन मेरठ आलोक सिंह घटनास्थल पहुंचे थे और उन्होंने मसूरी थाना प्रभारी प्रवीन कुमार शर्मा और डासना चौकी प्रभारी संजय अत्री को निलंबित कर दिया था। हालांकि पुलिस ने घटना के 15 घंटे के भीतर ही शाहरुख और स्कूटी चलाने वाले तहसीम को गिरफ्तार कर लिया था। आरोपित सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गए थे।

25-25 हजार का इनाम घोषित 
एसएसपी सुधीर कुमार सिंह ने किशोरी के भाई अमन और उसके चचेरे भाई सलमान के खिलाफ 25-25 हजार का इनाम घोषित किया है। पड़ोसियों ने दी थी हत्यारोपितों को पनाह एसपी ग्रामीण नीरज कुमार जादौन ने बताया कि हत्या की पूरी साजिश में तीन परिवार शामिल थे। किशोरी के परिवार के साथ उसकी मौसी व चाचा का परिवार के लोगों ने मिलकर साजिश रची थी।

मंगलवार को किशोरी की मां सुल्ताना, पसौंडा निवासी उसकी मौसी रुखसाना, पड़ोसी अब्दुल रहमान व उसका बेटा आबिद और सम्मन को गिरफ्तार किया गया है। हत्या के बाद से ही सुल्ताना और रुखसाना के मकान बंद थे। मंगलवार को घर से कुछ सामान लेने दोनों डासना आई थीं। सूचना मिलते ही इन्हें पकड़ लिया गया। सनसनीखेज तरीके से पांच गोली मारकर बीएस तोमर की हत्या के बाद अमन, सलमान, अरबाज, तहसीम और नौशाद ज्यादा दूर नहीं भागे थे। पांचों गली से होते हुए रहमान, आबिद व सम्मन के घर में घुस गए थे।

आरोपितों को पनाह देने पर गिरफ्तार
तीनों ने हत्यारोपितों को पनाह दी, जिस कारण इनके खिलाफ शरण देने और पुलिस कार्रवाई में बाधा पहुंचाने की धारा में अलग मुकदमा दर्ज कर गिरफ्तार किया गया है। हारुन को रिमांड पर लेगी पुलिस मसूरी थाने के कार्यवाहक थाना प्रभारी रण ¨सह ने बताया कि बीएस तोमर की हत्या के मुकदमे में हत्या व दहशत फैलाने के साथ धमकी, एकराय होने, साजिश रचने व बलवे की तीन धाराओं को भी जोड़ा गया है।

मुख्य आरोपितों में अमन, उसके चचेरे भाई सलमान, दोस्त तहसीम व पड़ोसी शाहरुख के साथ अमन के मौसेरे भाई अरबाज और पड़ोसी नौशाद उर्फ बकरी का भी नाम सामने आया है। हारुन, सुल्ताना व रुखसाना पर साजिश में रचने का आरोप है। एसपी ग्रामीण ने बताया कि हारुन को रिमांड पर लेकर पूछताछ की जाएगी। अमन, सलमान, नौशाद व अरबाज की तलाश में पुलिस की टीमें दबिश दे रही हैं। जल्द ही इनकी गिरफ्तारी होगी।

दिल्ली-NCR की ताजा खबरों को पढ़ने के लिए यहां पर करें क्लिक