नई दिल्ली, जागरण संवाददाता। रोहिंग्या मुसलमानों को बसाने के मामले में केजरीवाल सरकार और भाजपा आमने सामने हैं। भाजपा का आरोप है कि दिल्ली सरकार रोहिंग्या को आवास देकर बसाना चाहती है जबकि आप आदमी पार्टी के नेताओं का आरोप है कि रोहिंग्या को बसाने का कार्य भाजपा कर रही है। इसी क्रम में दिल्ली प्रदेश भाजपा अध्यक्ष आदेश गुप्ता ने आरोप लगाया है कि दिल्ली सरकार पूरी तरह से रोहिंग्या मुसलमानों को बसाने के लिए काम कर रही है। इन्हें आम आदमी पार्टी (आप) के नेताओं व विधायकों द्वारा खुलेआम संरक्षण दिया जा रहा है, दिल्ली के कर दाताओं के पैसे से मुफ्त भोजन, कपड़े, बिजली, पानी और अन्य सुविधाएं दी जा रही है। इसमें आप विधायक अमानतुल्लाह खां उन्हें शरणार्थी बताकर मदद की बात करते हैं। केजरीवाल सकरार को मालूम होना चाहिए कि रोहिंग्या शरणार्थी नहीं, घुसपैठिये हैं। इन्हें वापस भेजा जाना चाहिए। इसके लिए इनकी पहचान कर केंद्र सरकार को सूचना देने की जिम्मेदारी दिल्ली सरकार की है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को दिल्ली में रहने वाले लाखों गरीबों को सुविधाएं देने, झुग्गीवासियों को मकान देने और पाकिस्तान से दिल्ली में आकर रहने वाले हिंदू शरणार्थियों की चिंता नहीं है।

कश्मीरी गेट पास रहने वाले हिंदू शरणार्थियों को आजतक बिजली के कनेक्शन नहीं दिए गए। वहीं, राजनीतिक लाभ के लिए देश की सुरक्षा के साथ खिलवाड़ करते हुए दिल्ली सरकार और आप नेता घुसपैठियों का चुनाव पहचान पत्र, राशन कार्ड, आधार कार्ड बनवा रहे हैं। उनके बच्चों को स्कूलों में दाखिला दिलाया जा रहा है।

उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश सरकार की जमीन से जब इन घुसपैठियों को हटाया गया तो दिल्ली सरकार ने लोक निर्माण विभाग की जमीन पर उन्हें बसाया और मुफ्त सुविधाएं उपलब्ध कराई। मुख्यमंत्री के कहने पर दिल्ली के अधिकारियों ने रोहिंग्या घुसपैठियों को फ्लैट देने के लिए नई दिल्ली नगर पालिका परिषद को कई पत्र लिख चुके हैं। इसे लेकर अधिकारियों की बैठक भी हुई है।

Edited By: Pradeep Kumar Chauhan