नई दिल्ली [संतोष कुमार सिंह]। डेंगू के बढ़ रहे मामले को लेकर दिल्ली सरकार व नगर निगमों के साथ ही भाजपा की चिंता बढ़ गई है। कुछ माह बाद निगम का चुनाव है इसलिए डेंगू को लेकर राजनीति भी हो रही है। आम आदमी पार्टी (आप) भाजपा शासित निगमों पर लापरवाही का आरोप लगा रही है। दूसरी ओर भाजपा का कहना है कि जलभराव की समस्या हल करने में दिल्ली सरकार विफल रही है जिससे मच्छरजनित बीमारियों का खतरा बढ़ गया है। आरोप-प्रत्यारोप के साथ ही भाजपा नेतृत्व ने डेंगू के खिलाफ लड़ाई में निगमों को गंभीरता से काम करने का निर्देश दिया है।

इस काम में किसी तरह की लापरवाही न हो इसके लिए प्रदेश भाजपा के नेताओं को समन्वयक की जिम्मेदारी दी गई है।प्रदेश भाजपा अध्यक्ष आदेश गुप्ता ने पार्टी के निगम पार्षदों के साथ वर्चुअल बैठक करके उन्हें दिल्ली को डेंगू और चिकनगुनिया मुक्त बनाने के लिए जरूरी कदम उठाने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि दिल्ली का हर एक नागरिक स्वस्थ रहे, यह निगम की पहली प्राथमिकता है। इसे ध्यान में रखकर भाजपा शासित निगमों द्वारा मच्छरजनित बीमारियों के खिलाफ महाअभियान चलाया जा रहा है।

उन्होंने बताया कि प्रदेश उपाध्यक्ष वीरेन्द्र सचदेवा इस पूरे अभियान के समन्वयक होंगे। इसके साथ ही उत्तरी दिल्ली नगर निगम में प्रदेश उपाध्यक्ष राजीव बब्बर, दक्षिण दिल्ली नगर निगम प्रदेश उपाध्यक्ष राजन तिवारी एवं पूर्वी दिल्ली नगर निगम में प्रदेश उपाध्यक्ष अशोक गोयल देवराहा महा अभियान में समन्वय की जिम्मेदारी संभालेंगे। उन्होंने कहा कि डेंगू और जल जमाव से उत्पन्न होने वाली बीमारियों के प्रति निगम पूरी तरह सतर्क है और डोमेस्टिक ब्रिडिंग चेकर्स (डीबीसी) कर्मचारी काफी सतर्कता के साथ काम कर रहे हैं। प्रत्येक वार्ड में सफाई अभियान के साथ-साथ स्माग फागिंग, नालों की सफाई, कूड़े के ढ़ेर को हटाने के काम किए जा रहे हैं। भाजपा के पार्षद काम की निगरानी कर रहे हैं।

उन्होंने दिल्ली सरकार के अधीन आने वाले लोक निर्माण विभाग (पीडब्ल्यूडी), दिल्ली जल बोर्ड सहित अन्य विभाग नालों की सफाई करने और जल भराव की समस्या हल करने में पूरी तरह से नाकाम रहे हैं। झुग्गी बस्तियों व अन्य स्थानों पर जगह-जगह पानी भरा हुआ है जिससे मच्छरजनित बीमारियों का खतरा बढ़ गया है।

Edited By: Pradeep Chauhan