जागरण संवाददाता, नई दिल्ली । भीम आर्मी प्रमुख चंद्रशेखर आजाद ने शुक्रवार को दिल्ली के जंतर-मंतर पर बहुजन हुंकार रैली में केंद्र सरकार के खिलाफ जमकर हमला बोला। उन्होंने चेतावनी भरे लहजे में कहा कि देश के संविधान पर आंच आई तो भीमा-कोरेगांव दोहरा देंगे। हालांकि, अभी इस तरह की जरूरत नहीं पड़ी है। साथ ही उन्होंने एलान किया कि वह वाराणसी से लोकसभा चुनाव लड़ेंगे।

बहुजन समाज पार्टी के संस्थापक काशीराम के 85वें जन्मदिवस पर आयोजित रैली में मंच से भारत का संविधान पुस्तक का विमोचन करते हुए उन्होंने केंद्र सरकार पर निशाना साधा। चंद्रशेखर ने कहा कि लाल किले से नीला झंडा फहराना अब मेरा लक्ष्य है। इसी के लिए मुझे जीना व मरना है। संसद मार्ग से लोकसभा चुनाव के लिए हुंकार भरते हुए चंद्रशेखर ने अपनी संपत्ति समाज को समर्पित करने की घोषणा की।

लोकसभा चुनाव को 85 व 15 फीसद के बीच की लड़ाई बताते हुए उन्होंने कार्यकर्ताओं से मौजूदा सरकार की जमानत जब्त करवाने का भी आह्वान किया। चंद्रशेखर ने कहा कि केंद्र सरकार दलित विरोधी है, इसीलिए उन्होंने वाराणसी से चुनाव लड़ने का फैसला लिया है। यहां पर अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति, अन्य पिछड़ा वर्ग व अल्पसंख्यकों को एक करने के लिए आया हूं। मनुवादी व्यवस्था पर उन्होंने कहा कि यह चार 'अ' शब्दों पर टिका है। असमानता, असत्य, अन्याय व अपमान। हमें बहुजन चेतना बनाकर इसे हराना है।

आर्थिक आरक्षण पर अखिलेश से मांगा जवाब
 आर्थिक आधार पर आरक्षण को संविधान की हत्या बताने के बाद उन्होंने अखिलेश यादव पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि उनसे हमारे समाज के कर्मचारियों के उत्थान के लिए जवाब मांगा गया लेकिन, अभी तक जवाब भी नहीं मिला। उन्होंने कहा कि यदि हम लोग उनका समर्थन कर उनके सांसदों को लोकसभा में पहुंचाते हैं तो क्या वह हमारे अधिकारों के लिए लड़ेंगे, इसका जवाब अखिलेश को देना होगा।

शरद यादव के साथ कांशीराम की बहन ने भी जताया समर्थन
 रैली के समर्थन में पहुंचे लोकतांत्रिक जनता दल के राष्ट्रीय संरक्षक शरद यादव ने कहा कि देश में किसान व अन्य वर्ग संकट की स्थिति से गुजर रहे हैं। वहीं, कांशीराम की बहन स्वर्ण कौर ने भी भीम आर्मी रैली का समर्थन किया।

मैं भारत में था
 मेरठ से इलाज के लिए दिल्ली आने के दौरान गाजियाबाद से लापता होने का जब दैनिक जागरण ने कारण पूछा तो उन्होंने इसका गोलमोल जवाब देते हुए कहा कि मैं भारत में ही था।

सियासी पारा चढ़ा गए भीम आर्मी चीफ

मंगलवार को चंद्रशेखर को आनंद अस्पताल में भर्ती करने के बाद वरिष्ठ फिजीशियन डॉ. एनपी सिंह की टीम ने उनके स्वास्थ्य की जांच की थी। साथ ही दिल्ली के लिए रेफर भी किया गया, लेकिन तब चंद्रशेखर दिल्ली नहीं गए। भीम आर्मी प्रमुख को बुधवार को दिल्ली भेजने की तैयारी थी, लेकिन सहारनपुर के कांग्रेस नेता इमरान मसूद ने गुपचुप प्रियंका गांधी को बुलाकर चंद्रशेखर से मिलवाने की स्क्रिप्ट लिख दी।

कांग्रेस नेताओं की मानें तो यहां से निकली बात दूर तक जाएगी। माना जा रहा है कि इस बार इमरान मसूद सहारनपुर सीट पर जीत के लिए हरसंभव दांव खेलेंगे। इस सीट पर सपा-बसपा गठबंधन बड़ी संख्या में वोट न ले ले, ऐसे में चंद्रशेखर के बहाने इमरान बसपा प्रमुख मायावती के दलित वोट बैंक में सेंधमारी की कवायद में जुटे हैं।

सांस फूलने की शिकायत थी

डॉक्टरों का कहना है कि भर्ती के समय चंद्रशेखर का ब्लडप्रेशर थोड़ा बढ़ा था, जो बाद में सामान्य मिला। सांस फूलने की शिकायत भी दूर हो गई। दिल्ली के लिए रेफर किए जाने के दौरान स्थिति एवं रक्तचाप सामान्य बताया गया।

 

Posted By: JP Yadav

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप