नई दिल्ली, एएनआइ। 2012 Delhi Nirbhaya Case: निर्भया मामले में फांसी की सजा पाए चारों दोषियों अक्षय सिंह ठाकुर, विनय कुमार शर्मा, पवन कुमार गुप्ता और मुकेश सिंह में से तीन के वकील एपी सिंह को दिल्ली  बार काउंसिल (Bar Council of Delhi) ने नोटिस जारी किया है। 

बता दें कि पिछले महीने दिल्ली हाई कोर्ट ने वकील एपी सिंह पर सख्त आदेश देते हुए दिल्ली बार काउंसिल से कार्रवाई करने के  लिए कहा था। इसी के साथ वकील पर 25000 रुपये का जुर्माना भी लगाया था। वकील एपी सिंह पर आरोप है कि समन जारी होने के बाद भी वे कोर्ट में मौजूद नहीं थे। 

यह है पूरा मामला

यहां पर बता दें कि एपी सिंह पर आरोप लगा है कि उन्होंने अपने मुवक्किल पवन कुमार गुप्ता को फांसी के फंदे से बचाने के लिए जो कागजात पेश किए। इस पर कोर्ट ने याचिका खारिज करते हुए समन जारी होने के बावजूद कोर्ट में पेश नहीं होने पर फटकार लगाने के साथ 25 हजार का जुर्माना लगाया। वहीं, झूठी जानकारी देने पर कोर्ट ने दिल्ली बार काउंसिल से वकील एपी सिंह पर कड़ी कार्रवाई करने साथ इसकी जानकारी देने के लिए भी कहा था। 

यहां पर बता दें दिल्ली के वसंत विहार इलाके में 16 दिसंबर, 2012 को निर्भया के साथ छह दरिंदों (राम सिंह, एक नाबालिग, अक्षय सिंह ठाकुर, विनय कुमार शर्मा और मुकेश सिंह) ने सामूहिक दुष्कर्म किया था। 

छह दरिंदों ने निर्भया के साथ इस कदर शारीरिक नुकसान पहुंचाया कि इलाज के दौरान विदेशी अस्पताल में उसकी मौत हो गई। 

इसके बाद देश भर में लोगों में गुस्सा फैल गया। खासकर दिल्ली में जमकर प्रदर्शन हुआ, जिसके बाद तत्कालीन केंद्र सरकार ने कानून में बदलाव भी किया।

इसके बाद फास्ट ट्रैक में मुकदमा चला। पहली निचली अदालत फिर दिल्ली हाई कोर्ट और अंत में सुप्रीम कोर्ट भी चारों दोषियों को अक्षय, मुकेश, विनय और पवन को फांसी की सजा सुना चुका है। 

दिल्ली चुनाव की खबरों को पढ़ने के लिए करें क्लिक

Posted By: JP Yadav

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस