नई दिल्ली, जागरण संवाददाता। इंदिरा गांधी राष्ट्रीय मुक्त विश्वविद्यालय (इग्नू) ने दिसंबर 2020 की टर्म परीक्षा देने वाले छात्रों को अपनी कापियों का पुनर्मूल्यांकन कराने का एक बार फिर से मौका दिया है। दरअसल, इग्नू ने पुनर्मूल्यांकन कराने के लिए आवेदन करने की अंतिम तिथि 30 जून तक बढ़ा दी है। इससे पहले इसकी अंतिम तिथि 15 जून को समाप्त हो गई थी।

ऐसा उन छात्रों को मौका देने के लिए किया गया है जिनका परीक्षा परिणाम बाद में जारी होने के कारण उन्हें पुनर्मूल्यांकन का आवेदन करने के लिए पर्याप्त समय नहीं मिल पाया था। इग्नू के मुताबिक सभी छात्रों को पुनर्मूल्यांकन के लिए कम से कम 30 दिन का समय दिया जाता है। इसलिए कुछ छात्रों का परीक्षा परिणाम देरी से आने पर उन्हें कम समय मिला था। साथ ही जिन छात्रों का परीक्षा परिणाम दो जून को जारी हुआ है, वे भी परिणाम घोषित होने के 30 दिन तक पुनर्मूल्यांकन के लिए आवेदन कर सकते हैं।

डीयू ने 12 तदर्थ शिक्षकों की पुनर्नियुक्ति का दिया आदेश

विवेकानंद काॅलेज के 12 तदर्थ शिक्षकों को हटाए जाने से दिल्ली विश्वविद्यालय शिक्षक आक्रोशित थे। दिल्ली विवि शिक्षक संघ (डूटा) के नेतृत्व में दो बार आनलाइन प्रदर्शन समेत काॅलेज के बाहर भी शिक्षकों ने धरना दिया। डूटा ने शुक्रवार को कुलपति कार्यालय के बाहर भी प्रदर्शन किया। प्रदर्शन के दौरान कार्यवाहक कुलपति प्रो पीसी जोशी खुद बाहर आकर शिक्षकों से मिले और पुनर्नियुक्ति का आश्वासन दिया।

डूटा उपाध्यक्ष डा आलोक रंजन पांडेय ने बताया कि कार्यवाहक कुलपति के आश्वासन के बाद डूटा ने धरना समाप्त कर दिया था। कार्यवाहक कुलपति के आश्वासन के महज चंद घंटे बाद ही सहायक कुलसचिव ने एक आदेश जारी किया। जिसमें कहा गया है कि उच्चस्तरीय बैठक में शिक्षकों के मसले पर चर्चा हुई। डीयू नियमों, कोरोना महामारी के कारण उपजी परिस्थितियों को ध्यान में रखते हुए तदर्थ शिक्षकों की पुनर्नियुक्ति का फैसला लिया गया है। कहा गया कि पिछले शैक्षणिक सत्र के बाद एक दिन का ब्रेक देकर इन 12 तदर्थ शिक्षकों को वर्तमान शैक्षणिक सत्र तक नियुक्त किया जाए।

Edited By: Prateek Kumar