नई दिल्ली, जागरण डिजिटल डेस्क। दिल्ली के त्रिलोकपुरी इलाके में अंजन दास नाम के शख्स की हत्या ने देशभर को एक बार फिर सकते में डाल दिया है। अंजन की पत्नी पूनम और सौतेले बेटे ने छह महीने पहले मई में उसकी हत्या कर दी और फिर शव के टुकड़े-टुकड़ेकर फेंक दिए। अब इस मामले में मां और बेटा, दोनों पुलिस की हिरासत में है।

इस दौरान आरोपित महिला का कबूलनामा सामने आया है। पूनम ने कैमरे के सामने मीडिया को बताया कि उसके बेटे ने पति की हत्या की। अंजन की पत्नी पूनम ने बताया कि उसके पति की नीयत ठीक नहीं थी। वह उसके बच्चों पर बुरी नजर रखता था। इसलिए बेटे दीपक ने सौतेले पिता की जान ले ली। वहीं, महिला ने खुद को बेकसूर बताया है।

सौतेले बेटे की पत्नी पर अंजन की थी बुरी नजर

सोमवार को हत्याकांड का खुलासा करते हुए दिल्ली पुलिस ने बताया कि त्रिलोकपुरी में रहने वाला अंजन दास लिफ्ट ऑपरेटर का काम करता था। वह किराए के मकान में पूनम और उसके बेटे दीपक के साथ रहता था। दीपक अंजन दास का सौतेला पुत्र था। पूनम का सुखदेव नाम के शख्स से विवाह हुआ, जो शादी के बाद दिल्ली आ गया। पूनम सुखदेव को ढूंढने दिल्ली आई तो उसे कल्लू मिला जिससे पूनम को तीन बच्चे हुए। तीन बच्चों में से दीपक एक है।

फ्रिज में तीन दिन तक शव को रखा

दिल्ली क्राइम ब्रांच विशेष पुलिस आयुक्त रविंद्र सिंह यादव ने बताया कि लिवर फेल होने से कल्लू की मौत हो गई, जिसके बाद पूनम अंजन के साथ रहने लगी। इधर, अंजन का बिहार में परिवार है और उसके आठ बच्चे हैं। इस बात से पूनम बेखबर थी। वहीं, सौतेले बेटे दीपक की पत्नी पर अंजन की बुरी नजर थी। साथ ही वह इसके पैसे भी लेता था। इसी के चलते दीपक ने अंजन की हत्या की योजना बनाई। फिर पूनम और सौतेले बेटे दीपक ने अंजन की हत्या कर दी औऱ शव को तीन दिन तक फ्रिज में रखा। फिर शव के टुकड़ों को एक-एक कर फेंक दिया।

Delhi Murder: रिश्तों की कलंक गाथा, 1000 km दूर बिहार में 'अंजन' की करतूत से अनजान रहा परिवार

 

श्रद्धा की तरह ही 6 माह बाद खुला अंजन की मौत का राज, जानिए दिल्ली के 2 सनसनीखेज हत्याकांड में 5 समानताएं

डेटिंग एप पर प्यार, लिव इन में तकरार और हत्या, तीन साल में श्रद्धा-आफताब की 'Love Story' का खौफनाक 'The End'

Edited By: Aditi Choudhary

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट