नई दिल्ली, जागरण संवाददाता। कोरोना की दूसरी लहर से उबरने के बाद अब हवाई यात्रियों की संख्या में तेजी से बढ़ोतरी देखी जा रही है। इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट (आइजीआइ) की ही बात करें तो केवल जुलाई महीने में ही यहां 20.29 लाख यात्रियों की आवाजाही दर्ज की गई। आइजीआइ एयरपोर्ट के प्रबंधन को संभालने वाली संस्था डायल के मुताबिक हवाई यात्रा काे लेकर लगे प्रतिबंधों में छूट व तेजी से हो रहे टीकाकरण के कारण इतनी बड़ी तादाद में लाेगों का हवाई जहाज से आना- जाना संभव हो रहा है। हालांकि पिछले वर्ष के मुकाबले अभी भी हवाई यात्रियों की संख्या कम है।

आइजीआइ पर यात्रियों की संख्या में बढ़ोतरी अगस्त महीने की शुरुआत से ही देखी जाने लगी। अगस्त महीने में पहले 10 दिनों के भीतर 90 हजार यात्रियों ने यहां से सफर किया। मई के मध्य के मुकाबले यह बढ़ोतरी करीब पांच गुनी है। मई के मध्य में यहां से रोजाना करीब 18 हजार यात्री ही सफर करते थे। हालांकि अगले महीने जून तक यह आंकड़ा बढ़कर 62 हजार पहुंच गया था। डायल के मुताबिक कोरोना की दूसरी लहर के थमने के बाद दूसरे शहर में रहने वाले अपने स्वजन व परिचितों से मिलने के लिए लोगों ने हवाई यात्रा करनी शुरू कर दी।

जून महीने में हवाई यात्रियों में ऐसे यात्रियों की तादाद करीब करीब आधी थी। इनके मुकाबले कारोबार के सिलसिले में यात्री करने वालों की तादाद महज 19 फीसदी थी। वहीं ग्रीष्म कालीन अवकाश के लिए लोग एक शहर से दूसरे शहर के लिए निकले। सरकार ने बदली परिस्थतियों को देखते हुए हवाई जहाज में यात्रियों की संख्या पर लगे प्रतिबंध में छूट दी। जून में कुल क्षमता के 50 फीसद यात्रियों को ही ले जाने की बाध्यता में छूट दी, जिसके बाद हवाई जहाज में कुल क्षमता के मुकाबले 72.5 फीसद सीटों पर यात्री सफर कर सकते थे। इधर रक्षा बंधन त्योहार ने भी हवाई यात्रियों को बढ़ाने में अपना योगदान दिया।

Edited By: Vinay Kumar Tiwari