नई दिल्ली, गौतम मिश्रा। जेलों में फैली अव्यवस्था को लेकर प्रशासन की लगातार किरकिरी के बाद अब बड़े पैमाने पर जेलों में प्रशासनिक फेरबदल किया जा रहा है। प्रशासनिक फेरबदल से कैदियों व जेलकर्मियों के बीच के सांठगांठ या इसकी संभावना को खत्म करने की कोशिश करार दी जा रही है। यह फेरबदल कितना रंग लाएगा, यह तो आने वाला समय बताएगा लेकिन फिलहाल जेल कर्मियों में तबादले को लेकर हड़कंप की स्थिति है। तबादले की प्रक्रिया में अधीक्षक, उपाधीक्षक, सहायक अधीक्षक से लेकर हेड वार्डर व वार्डर सभी संवर्गों के अधिकारियों व कर्मियों को तबादले को शामिल किया गया है।

दिल्ली की जेलों में बड़े पैमाने पर तबादले को लेकर इस वर्ष की शुरुआत से ही कोशिश की जा रही है। लेकिन शुरुआती कोशिश को निर्भया मामले के दोषियों को फांसी पर लटकाने के मामले के कारण टालना पड़ा। फिर इसके बाद कोरोना संक्रमण के मामले के कारण प्रशासनिक फेरबदल को रोकना पड़ा। लेकिन अब किंतु-परंतु की लकीर को पार करते हुए इस प्रक्रिया की शुरुआत कर दी गई है।

पहले चरण में अधीक्षकों के तबादले किए गए। फिर इसके बाद उपाधीक्षक व सहायक अधीक्षकों को तबादले की जद में लाया गया। अब बारी हेड वार्डर व वार्डर की है। हेड वार्डर व वार्डर की संख्या उपाधीक्षक व सहायक उपाधीक्षक के मुकाबले कई गुना ज्यादा होने के कारण इनके तबादले की फेहरिस्त को एक बार जारी न करके तीन से चार चरणों में जारी किया जाएगा।

प्रशासन की कोशिश है कि तिहाड़ परिसर के जेलों में तैनात वार्डर व हेड वार्डर में अधिकांश का तबादला मंडोली या फिर रोहिणी परिसर किया जाए। हालांकि तबादले की आशंका के बीच अभी से जेल मुख्यालय में वार्डर व हेड वार्डरों की ओर से अधिकारियों के पास सिफारिशों की बाढ़ आई हुई है। कोई स्वास्थ्य तो कोई घर से मंडोली परिसर की दूरी का बहाना बनाकर तबादले को टालने की भरसक कोशिश में जुटा है।

तिहाड़ परिसर में तैनात अधीक्षक से लेकर वार्डर तक की भरसक कोशिश है कि यदि तबादले की जद में उन्हें लाया भी जाय तो उन्हें तिहाड़ के ही नौ जेलों में इधर से उधर कर दिया जाए। तमाम उधेड़बुन बीच तबादले की जद में आने वाले कर्मियों की सूची तैयार की जा रही है। पहले चरण में छह उपाधीक्षकों के तबादले किए गए हैं। वहीं सहायक अधीक्षक संवर्ग में 72 अधिकारियों के तबादले किए गए हैं। जेल प्रशासन के करीब 1400 वार्डर हैं। इसके अलावा करीब 400 हेड वार्डर हैं।

Coronavirus: निश्चिंत रहें पूरी तरह सुरक्षित है आपका अखबार, पढ़ें- विशेषज्ञों की राय व देखें- वीडियो

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस