गुरुग्राम, जेएनएन। क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली की कार को घर के बाहर पाइप लगाकर धोने के मामले में चालान काटकर सख्ती बरतने वाला नगर निगम कार वाशिंग सेंटरों पर मेहरबान नजर आ रहा है। गाड़ियां धोने में रोजाना लाखों लीटर पेयजल बर्बाद करने वाले जिले के लगभग 250 से ज्यादा कार वाशिंग सेंटर के खिलाफ न तो जिला प्रशासन और न ही नगर निगम ने सख्ती बरती है।

घरों के बाहर गाड़ियां धोने पर नगर निगम की टीम ने डीएलएफ इलाके में पिछले दिनों काफी चालान किए गए थे, जिनमें पांच जून को विराट कोहली की कार का भी चालान हुआ था। झाड़सा, इस्लामपुर, झाड़सा रोड ओल्ड ज्यूडिशियल कांप्लेक्स, सेक्टर-15 पार्ट टू के नजदीक पटेल नगर, जेल रोड सहित काफी जगहों पर वाशिंग सेंटर बने हुए हैं। ये वाशिंग सेंटर बिना किसी परमिशन के चल रहे हैं।

काफी जगह लगे हैं अवैध बोरवेल
कार वाशिंग सेंटरों पर काफी जगहों पर प्रतिबंध होने के बावजूद अवैध रूप से बोरवेल किए हुए हैं। प्रशासन को इसकी खबर होने के बावजूद कार्रवाई नहीं होने से अधिकारियों की कार्यप्रणाली पर सवालिया निशान लग रहे हैं। बोरवेल के पानी का गाड़ियां धोकर कमर्शियल उपयोग किया जा रहा है। कई सेंटरों पर नहरी पेयजल का उपयोग गाड़ियां धोने में हो रहा है।

शहर में जगह-जगह पेयजल की किल्लत
वाशिंग सेंटरों द्वारा पानी की बर्बादी करने से भूमिगत जल स्तर भी काफी नीचे जा रहा है। प्रचंड गर्मी में शहर के काफी इलाकों में पानी का संकट है और लोग टैंकरों से पानी मंगवाकर अपनी प्यास बुझा रहे हैं। शहर की काफी कॉलोनियों में पेयजल नहीं पहुंचने की शिकायतें नगर निगम में पहुंच रही हैं।

दिल्ली-NCR की ताजा खबरों को पढ़ने के लिए यहां पर करें क्लिक

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप