नई दिल्ली (राज्य ब्यूरो)। दिल्ली विधानसभा के चुनाव के लिए गरमा रही राजनीति के बीच आम आदमी पार्टी (आप) ने कांग्रेस और भाजपा के बीच गठबंधन होने का आरोप लगाया है। आप ने कहा कि शहरी-सदर पहाड़गंज (सिटी एसपी) जोन के चेयरमैन के चुनाव को लेकर कांग्रेस के शीर्ष नेतृत्व के कहने पर भाजपा से गठबंधन करने का रुख कांग्रेस के निगम पार्षदों ने अपनाया।

पार्टी के दिल्ली प्रदेश संयोजक गोपाल राय ने कहा कि उत्तरी निगम के अंदर नरेला और सिटी एसपी जोन हैं। सिटी एसपी जोन में आप के 8 पार्षद हैं। इसका मतलब है कि 8 वोट आम आदमी पार्टी के पास हैं, 6 पार्षद अर्थात 6 वोट कांग्रेस के पास हैं, और 3 पार्षद भाजपा के पास अर्थात 3 वोट भाजपा के पास हैं।

जोन के चुनाव में 3 पद होते हैं। पहला अध्यक्ष का होता है, दूसरा उपाध्यक्ष और तीसरा पद स्थायी समिति के सदस्य का होता है। अध्यक्ष और उपाध्यक्ष पद पर कांग्रेस के प्रत्याशी 9-9 वोट के साथ जीते और स्थायी समिति के सदस्य के पद पर भाजपा का प्रत्याशी 9 वोट के साथ जीता।

इस तरह कांग्रेस के अध्यक्ष एवं उपाध्यक्ष पद के प्रत्याशियों के पक्ष में 6-6 वोट कांग्रेस के और तीन वोट भाजपा के पड़े। इसी प्रकार भाजपा के स्थायी समिति के सदस्य के पद के प्रत्याशी के पक्ष में 6 वोट कांग्रेस के और 3 वोट भाजपा के पड़े। इससे साफ जाहिर हो गया है कि भाजपा और कांग्रेस दोनों मिली हुई हैं और दोनों ने मिलकर जोन का चुनाव लड़ा है।

राय ने कहा कि लोकसभा चुनाव के समय भी यह प्रश्न उठे थे कि अगर कांग्रेस भाजपा को हराना चाहती है तो दिल्ली समेत उत्तर प्रदेश, पश्चिम बंगाल, आंध्र प्रदेश और हरियाणा आदि राज्यों में हर जगह जहां पर विपक्ष मजबूत है, वहां अपने प्रत्याशियों को अलग से चुनाव लड़वाकर वोट काटने का काम क्यों कर रही है? उन्होंने कहा कि इस जोन के चुनाव में कांग्रेस ने भाजपा के साथ गठबंधन करके आप के खिलाफ जो षड्यंत्र किया है, उसने कांग्रेस की उस समय की मंशा को साफ कर दिया है।

दिल्‍ली-एनसीआर की खबरों के लिए यहां क्‍लिक करें

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप