नई दिल्ली, जागरण संवाददाता। अमेरिका में कीर्तन करने के बहाने दिल्ली के एक गुरुद्वारे की ग्रंथी से 1.25 लाख की ठगी करने वाले आरोपित संजय यादव को उत्तरी जिला के साइबर थाना पुलिस ने इंदौर से गिरफ्तार किया है। प्रधान ग्रंथी बलदेव सिंह से आरोपित ने वाट्सअप के जरिए संपर्क कर धोखाधडी की थी।

आरोपित ने पीड़ित से संपर्क करने और उन्हें ठगने के लिए कई मोबाइल नंबरों और बैंक खातों का इस्तेमाल किया था। वह पहले भी दिल्ली और मुंबई में इसी तरह के आपराधिक मामलों में संलिप्त रहा है। डीसीपी सागर सिंह कलसी के मुताबिक आरोपित के कब्जे से 10 मोबाइल फोन और 11 डेबिट कार्ड बरामद किए गए हैं।

एसीपी धर्मेंद्र कुमार व थानाध्यक्ष पवन तोमर के नेतृत्व में एसआई रंजीत, एएसआई महेश, हवलदार विपिन, करमबीर की टीम ने संजय यादव को इंदौर, मध्य प्रदेश से गिरफ्तार किया। सिविल लाइंस में रहने वाले बलदेव ¨सह ने गृह मंत्रालय के साइबर क्राइम पोर्टल पर शिकायत की थी।

उक्त शिकायत साइबर पुलिस स्टेशन उत्तर जिले में प्राप्त हुई थी। इसमें कहा गया था कि शिकायतकर्ता को संयुक्त राज्य अमेरिका के विभिन्न शहरों में विवाह और अन्य सांस्कृतिक अवसरों में कीर्तन करने के लिए बुलाया गया था। दस्तावेज के नाम पर उनसे रकम मांगी गई।

शिकायतकर्ता ने 1.25 लाख आरोपित द्वारा उपलब्ध कराए गए बैंक खातों में भेज दिया था। वीजा शुल्क और मनी एक्सचेंज के भुगतान के नाम पर भी शिकायतकर्ता को ठगा गया।

काल डिटेल्स और पैसे के लेन-देन का तकनीकी विश्लेषण से पता चला कि आरोपित इंदौर के विभिन्न स्थानों से काम कर रहा है। वहीं से उसने पैसे निकाले थे।

वहां लगे कई सीसीटीवी कैमरों के फुटेज और विश्लेषण के बाद इंदौर में विभिन्न स्थानों पर छापे मारे गए। उसके बाद संजय यादव को दबोच लिया गया। संजय, इंदौर का रहने वाला है। वह पहले संसद मार्ग थाना और मुंबई में धोखाधड़ी के दो मामलों में संलिप्त रहा है।

Edited By: Jp Yadav