नई दिल्ली, जागरण संवाददाता। दिल्ली पुलिस स्पेशल सेल की सोमवार सुबह जाफरपुर कलां में कुख्यात कपिल सांगवान उर्फ नंदू व ज्योति बाबा गिरोह के बदमाशों के बीच मुठभेड़ हो गई। मुठभेड़ में बदमाशों की गोलियों से कोई पुलिसकर्मी घायल नहीं हुआ। पुलिसकर्मियों की गोलियों से तीन बदमाश घायल हो गए। तीनों के पैरों में गोली लगी। मुठभेड़ के बाद पुलिस ने चार बदमाशों को दबोच लिया। इनके पास से चार पिस्टल, 10 कारतूस व दो बाइक बरामद की गई। पकड़े गए बदमाश दिल्ली के कई व्यपारियों को धमकी देकर उनसे रंगदारी वसूल चुके हैं। चारों हत्या, हत्या के प्रयास, उगाही, लूटपाट व कार लूट के कई मामले में वांछित थे।

डीसीपी स्पेशल सेल संजीव कुमार यादव के मुताबिक गिरफ्तार किए गए बदमाशों के नाम विनय (गोपाल नगर, नजफगढ़) , रोबिन बालियान (सोनीपत, हरियाणा), सुमित पुनिया (महेंद्रगढ़, हरियाणा) व दीपू डागर (जाफरपुर कलां) है। पूछताछ में चारों ने बताया कि उनकी योजना मालिकपुर गांव निवासी एक कारोबारी की हत्या करने की थी। रंगदारी देने से इंकार करने पर इन्हें व्यापारी की हत्या की जिम्मेदारी सौंपी गई थी। यह गिरोह काफी समय से दिल्ली के व्यापारियों, बिल्डरों व अमीर लोगों को धमकी देकर उनसे रंगदारी मांगने का धंधा कर रहा है। पैसे देने से इंकार करने पर बदमाश उनपर जानलेवा हमला करते हैं। स्पेशल सेल की टीम लगातार बड़े गिरोहों की गतिविधियों पर नजर रख रही है। न सोमवार सुबह सेल को सूचना मिली कि जाफरपुर कलां इलाके में नंदू-ज्योति बाबा गिरोह के बदमाश रंगदारी न देने पर नजफगढ़ के एक कारोबारी की हत्या करने आने वाले हैं।

एसीपी संजय डागर, इंस्पेक्टर मन ¨सह व अनुज के नेतृत्व में एसआइ आनंद, प्रवीण, रवि, पुनीत, राजेश व प्रदीप की टीम ने जाफरपुर कलां में उजवा गांव से खरखड़ी गांव जाने वाली सड़क पर वाहनों की जांच शुरू कर दी। उसी दौरान दो बाइक पर चार युवकों को संदिग्ध हालत में आते देख पुलिसकर्मियों ने जब उन्हें रुकने का इशारा किया तब रफ्तार तेज कर वे वहां से भागने की कोशिश करने लगे। पुलिसकर्मियों ने जब उनका पीछा किया तो बदमाशों ने उनपर फायरिंग करनी शुरू कर दी।

पुलिसकर्मियों की जवाबी कार्रवाई में विनय, रोबिन बालियान और सुमित पुनिया के पैरों में गोली लगने से वे जख्मी हो गए। पुलिस टीम ने इन तीनों के अलावा चौथे बदमाश दीपू डागर को भी दबोच लिला। चारों के पास से चार पिस्टल व दस कारतूस मिले। पूछताछ में विनय ने बताया कि वे मालिकपुर, नजफगढ़ में रहने वाले एक व्यापारी की हत्या करने आए थे। विनय ने ही साथी बदमाशों को हथियार मुहैया कराया था। विकास उर्फ पीके ने रोबिन बालियान को व्यापारी की हत्या की जिम्मेदारी सौंपी थी। विनय के खिलाफ 40 आपराधिक मामले दर्ज हैं।

Edited By: Mangal Yadav