नई दिल्ली, जेएनएन। राजधानी दिल्ली में छह दिन बाद कोरोना के मामले चार हजार से कम आए। इसका कारण यह है कि पिछले दिनों के मुकाबले करीब आठ हजार कम सैंपल की जांच हुई। इस वजह से रविवार को कोरोना के 3812 नए मामले आए। वहीं 3742 मरीज ठीक हुए, लेकिन संक्रमण दर 7.27 फीसद पर बरकरार है। वहीं पिछले 24 घंटे में 37 मरीजों की मौत हो गई। थोड़ी राहत की बात यह है कि मृत्यु दर घटकर 2.02 फीसद पर आ गई है। जून में एक समय दिल्ली में मृत्यु दर करीब चार फीसद पर पहुंच गई थी। तब से लेकर अब तक मृत्यु दर में करीब 50 फीसद की गिरावट आ चुकी है।

स्वास्थ्य विभाग की रिपोर्ट के अनुसार दिल्ली में अब तक कोरोना के कुल दो लाख 46 हजार 711 मामले आ चुके हैं, जिसमें से दो लाख नौ हजार 632 लोग ठीक हो चुके हैं। इस वजह से मरीजों के ठीक होने की दर अभी 84.97 फीसद है। वहीं मृतकों की संख्या 4982 हो चुकी है। मौजूदा समय में 32,097 सक्रिय मरीज हैं। अस्पतालों में भर्ती मरीजों की संख्या 7040 हो गई है। वहीं कोविड केयर सेंटर में 1937 व कोविड हेल्थ सेंटर में 398 मरीज भर्ती किए गए हैं।

24 घंटे में 52,405 सैंपल की जांच

दिल्ली में अब तक कुल 25 लाख 55 हजार 7 सैंपल की जांच की गई है, जिसमें से 32,405 सैंपल की जांच पिछले 24 घंटे में हुई है। इसमें से 11,322 सैंपल की आरटीपीसीआर व 41,083 सैंपल की एंटीजन जांच की गई, जिसमें से 7.27 फीसद सैंपल पॉजिटिव पाए गए। कोरोना के मामले अधिक आने के कारण कैट्स एंबुलेंस सेवा के कंट्रोल रूम में भी मरीजों के कॉल अधिक आने लगे हैं।

स्वास्थ्य विभाग के अनुसार एक दिन में 1448 लोगों ने एंबुलेंस के लिए कॉल किया, जिन्हें एंबुलेंस की सुविधा उपलब्ध कराई गई। सामान्य दिनों में कैट्स के कंट्रोल रूम में करीब एक हजार मरीज एंबुलेंस के लिए कॉल करते हैं।

Coronavirus: निश्चिंत रहें पूरी तरह सुरक्षित है आपका अखबार, पढ़ें- विशेषज्ञों की राय व देखें- वीडियो

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस