नई दिल्ली [गौतम कुमार मिश्र]। 2012 Delhi Nirbhaya Case : निर्भया के चारों दोषियों को 20 मार्च को सुबह 5:30 बजे दी जानी वाली फांसी के मद्देनजर तिहाड़ जेल संख्या-3 में गहमागहमी बढ़ गई है। मेरठ से दिल्ली के लिए चला जल्लाद पवन मंगलवार शाम को कभी भी तिहाड़ जेल पहुंच सकता है। 

फांसी के फाइनल ट्रायल की चल रही तैयारी

तिहाड़ जेल प्रशासन से जुड़े सूत्रों के मुताबिक, 20 मार्च को होने वाली फांसी के लिए जेल में तैयारी पूरी कर ली गई है। जल्लाद पवन के तिहाड़ जेल पहुंचते ही फांसी का ट्रायल शुरू होगा। हो सकता है देर रात तक फांसी का ट्रायल हो भी जाए। ट्रायल के लिए डमी भी तैयार है। फांसी के फाइनल ट्रायल के दौरान जेल अधिकारी, लोक निर्माण विभाग के अधिकारी भी मौजूद रहेंगे।

जेल अधिकारियों ने फांसी घर का निरीक्षण

मिली जानकारी के मुताबिक, फांसी की तैयारी की कड़ी में सोमवार को ही जेल अधिकारियों ने फांसी घर का निरीक्षण किया था। 

नियमित हो रही निर्भया के दोषियों की स्वास्थ्य जांच

फांसी के मद्देनजर निर्भया के चारों दोषियों की सुरक्षा बढ़ा दी गई है। इसी के साथ चारों के स्वास्थ्य पर बारीकी से नजर रखी जा रही है। खासकर उनके खान-पान का खास ख्याल रखा जा रहा है।

वजन पर है जेल अधिकारियों की नजर

चारों दोषियों के स्वास्थ्य पर जेल प्रशासन कड़ी नजर रख रहा है। खास कर उनके वजन पर बराबर नजर रखी जा रही है, क्योंकि वजन कम या बहुत ज्यादा होने पर पहले से फांसी के फंदे को ऊपर या नीचे किया जाएगा। 

यह भी जानें

  • सुप्रीम कोर्ट ने एक दिन पहले ही चारों में से एक दोषी मुकेश की दोबारा कानूनी विकल्प की इजाजत मांगने वाली याचिका खारिज कर दी।
  • दिल्ली की पटियाला हाउस कोर्ट चारों दोषियों को फांसी देने के लिए 20 मार्च, सुबह 5.30 बजे का वक्त मुकर्रर कर चुका है। 
  • दिल्ली में 16 दिसंबर, 2012 की रात चलती बस में पैरामेडिकल की छात्रा से सामूहिक दुष्कर्म हुआ था।
  • इस मामले में निचली अदालत से लेकर सुप्रीम कोर्ट तक से चारों दोषियों मुकेश, पवन, विनय और अक्षय को फांसी की सजा सुनाई जा चुकी है। चारों दोषियों के सभी कानूनी विकल्प समाप्त हो चुके हैं।
  • निर्भया के चार दोषियों में से तीन की परिजनों से अंतिम मुलाकात कराई जा चुकी है। अब केवल अक्षय के ही परिजनों से अंतिम मुलाकात शेष रही है। 
  • जेल मैनुअल के हिसाब से डेथ वारंट के बाद किसी भी दोषी को परिजनों से अंतिम मुलाकात का मौका दिया जाता है। इससे पूर्व भी डेथ वारंट जारी होने के बाद दोषियों की परिजनों से अंतिम मुलाकात कराई जाती रही है। जेल प्रशासन के अनुसार अंतिम मुलाकात के बाद अब दोषियों को परिजनों से सामान्य मुलाकात कराई जा रही है। 

Posted By: JP Yadav

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस