जागरण संवाददाता, नई दिल्ली :

सरिता विहार में गत दिनों गन प्वाइंट पर 65 लाख रुपये लूटने के मामले में स्पेशल सेल ने राष्ट्रीय स्तर के कुश्ती खिलाड़ी समेत तीन बदमाशों को गिरफ्तार कर लूट की गुत्थी सुलझा ली है। तीन बाइक सवार छह बदमाशों ने लूट की वारदात को अंजाम दिया था। पुलिस ने इनके पास से लूटी गई रकम में से 7.5 लाख रुपये व लूट की रकम से खरीदी गई एक जिप्सी व अरटिगा कार बरामद कर ली है। साथ ही इनके बैंकों के खाते में जमा 6 लाख रुपये भी पुलिस ने फ्रीज करवा दिए हैं।

डीसीपी स्पेशल सेल प्रमोद सिंह कुशवाहा के मुताबिक गिरफ्तार किए गए बदमाशों के नाम राजेश उर्फ मोनू, सुनील कुमार उर्फ ¨रकू व योगेंद्र सरोया है। इनमें राजेश नरेला का रहने वाला है। उसके पिता का डेयरी का कारोबार है। बकनेर अखाड़े में सुनील से परिचय होने पर वह भी वारदात को अंजाम देने लगा। राजेश के खिलाफ हत्या के प्रयास समेत 5 केस दर्ज हैं। उसका अश्विनी नाम के बदमाश से दुश्मनी है। अश्विनी कुख्यात बदमाश समुंदर खत्री व नवीन खत्री का दोस्त बना हुआ है। इसी बात को लेकर समंदर खत्री व नवीन खत्री गिरोह से भी राजेश की दुश्मनी चल रही है।

सुनील कुमार सोनीपत (हरियाणा) का रहने वाला है। वह राष्ट्रीय स्तर का पहलवान है। कुछ समय पूर्व उसके कंधे में चोट आ जाने पर उसका करियर प्रभावित हो गया था।

योगेंद्र शाहबाद डेयरी का रहने वाला है। पहले उसने प्राइवेट नौकरी की फिर सुनील के संपर्क में आकर आपराधिक वारदात करने लगा।

सुनील गिरोह का सरगना है। उसे अगस्त से पहले सूचना मिली थी कि बवाना के रहने वाले गौरव के साथ मिलकर मोहम्मद शाजेब प्रतिदिन लाखों रुपये इधर से उधर ले जाते हैं। उक्त सूचना पर सुनील ने बंटी, राहुल, टूंडा, सोनू, योगेंद्र व अन्य के साथ मिलकर वारदात को अंजाम दिया।

बीते एक अगस्त को फॉरेन करेंसी एक्सचेंजर का काम करने वाले मो. साजेब जब सरिता विहार स्थित अपना कार्यालय बंद कर भाई नाजिम के साथ दो अलग-अलग बाइक से घर जा रहे थे। तब रात करीब 9 बजे तीन बाइक पर सवार 6 बदमाशों ने उन्हें रोक कर गन प्वाइंट पर 65 लाख रुपयों से भरा बैग लूट लिए। इस दौरान एक बदमाश में हवा में फाय¨रग भी की थी। सरिता विहार थाने में पीड़ित ने डकैती का मुकदमा दर्ज करवा दिया था।

एसीपी अतर सिंह व इंस्पेक्टर शिव कुमार की टीम ने करीब एक महीने तक तफ्तीश के बाद पहले 9 सितंबर को योगेंद्र को सिरीफोर्ट बस स्टैंड के पास से दबोच लिया। उसके पास से पिस्टल तीन कारतूस मिले। उससे पूछताछ के बाद 10 सितंबर को नरेला से सुनील व राजेश को दबोच लिया गया। उसके पास से पिस्टल व 6 कारतूस मिले।

Posted By: Jagran