अरविद कुमार द्विवेदी, दक्षिणी दिल्ली

अनलॉक-1 के तहत सोमवार को सभी मंदिरों को भक्तों के लिए खोल दिया जाएगा। कालकाजी मंदिर में भक्त पूरी तरह से सैनिटाइज होकर मां के दर्शन करने पहुंचें, इसकी भी पूरी तैयारी कर ली गई है। इसके लिए मंदिर में पांच फुट लंबी दो टनल लगाई जा रही हैं। समाजसेवी संस्था निष्ठा फाउंडेशन की ओर से ये दो टनल यहां पर लगवाई जा रही हैं। निष्ठा फाउंडेशन के संस्थापक दीपक गुप्ता ने बताया कि सोमवार को मंदिर खुलने से पहले ये टनल काम करने लगेंगी। ये दोनों टनल पूरी तरह से ऑटोमेटिक हैं। इनसे होकर गुजरने वाला व्यक्ति पूरी तरह से सैनिटाइज हो जाएगा।

ऐसे काम करती है टनल

करीब पांच फुट लंबी यह टनल इलेक्ट्रिक मोटर से चलेगी। एक बार में टनल में दो भक्त जा सकेंगे। लोग चलते रहेंगे और उन कोरोना वायरस को खत्म करने वाले घोल का स्प्रे अपने आप होता रहेगा। दोनों टनल में घोल के लिए 500-500 लीटर की दो टंकियां लगाई गई हैं। इसी में घोल को भरा जाएगा। इसे एक बार भरने पर करीब एक हजार लोग सैनिटाइज हो सकेंगे। घोल खत्म होने के बाद टंकियों को दोबारा भरा जा सकता है। ये टनल दिन-रात काम करेंगे। इनकी देखरेख के लिए संस्था की ओर से वॉलेंटियर भी तैनात किए जाएंगे।

शारीरिक दूरी का भी रखा जाएगा ध्यान: सुरेंद्र नाथ अवधूत

कालकाजी मंदिर के महंत सुरेंद्रनाथ अवधूत ने बताया कि कोरोना महामारी को देखते हुए सभी एहतियाती कदम उठाए जा रहे हैं। शारीरिक दूरी के नियम का पालन करवाने के लिए मार्किंग कर दी गई है। मंदिर आने वाले भक्तों की थर्मल स्क्रीनिग की जाएगी। मंदिर प्रांगण में ज्यादा भीड़ एकत्रित नहीं होने दी जाएगी। महंत ने बताया कि 15-15 भक्तों की टोली बनाकर एक-एक करके मां के दर्शन के लिए भेजा जाएगा। 65 साल से अधिक आयु वाले लोगों, 10 साल से कम उम्र के बच्चों व गर्भवती महिलाओं को मंदिर में प्रवेश नहीं दिया जाएगा। मंदिर में प्रसाद चढ़ाने, घंटा बजाने व पुष्पहार चढ़ाने की मनाही होगी।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस