जागरण संवाददाता, दक्षिणी दिल्ली: नवरात्र के दूसरे दिन रविवार को माता के दर्शन करने के लिए कालका जी मंदिर में सुबह से ही भक्तों की कतार लगी रही। अवकाश का दिन होने के कारण भीड़ इतनी बढ़ गई कि दोपहर चार घंटे के लिए मंदिर को बंद करना पड़ा। शाम को पांच बजे फिर मंदिर को श्रद्धालुओं के लिए खोल दिया गया।

मां ब्रह्माचारिणी की लोगों ने पूजा-अर्चना की। माता का श्रृंगार होने के बाद आरती की गई। श्रद्धालुओं ने माता से कोरोना नाम के संकट को जल्द दूर करने की प्रार्थना की।

मंदिर में पहुंचे भक्तों ने बाहर लंबी लाइन लगाई। इस बार मंदिर में प्रवेश के लिए एक मार्ग बनाया गया है। इसके बैरिकेड में उतने ही भक्तों को प्रवेश दिया जा रहा था, जितने में शारीरिक दूरी के नियम का पालन हो सके। मंदिर परिसर के बाहर लोग बिना शारीरिक दूरी के नियम का पालन किए लाइन में खड़े रहे। इसे देखकर बाहर तैनात पुलिसकर्मियों ने वस्तुस्थिति की जानकारी अपने आलाअधिकारियों को दी। सूचना के बाद मौके पर पहुंचे कालका जी के एसीपी ने मंदिर प्रबंधन से बात कर कुछ समय के बाद मंदिर को बंद करवा दिया। एसीपी ने बताया कि भीड़ बढ़ने से शारीरिक दूरी का पालन संभव नहीं हो पा रहा था। इसलिए मंदिर को अस्थायी रूप से चार घंटे के लिए बंद किया गया था।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस