जागरण संवाददाता, नई दिल्ली :

चांदनी चौक स्थित धर्मपुरा हवेली को यूनेस्को ने एशिया पैसिफिक अवार्ड फॉर कन्जर्वेशन एंड हेरिटेज से सम्मानित किया है। अपनी हवेली को यह सम्मान मिलने पर केंद्रीय मंत्री विजय गोयल ने हर्ष जताते हुए इसे देश व राजधानी के लिए गौरवपूर्ण अवसर बताया है।

धर्मपुरा हवेली में शुक्रवार को हेरिटेज इंडिया फाउंडेशन के राष्ट्रीय अध्यक्ष व केंद्रीय मंत्री विजय गोयल ने प्रेस वार्ता की व इस दौरान लाहौरी गेट को संग्रहालय के तौर पर विकसित करने की घोषणा भी की। उन्होंने कहा कि यह पहला मौका है कि जब यूनाइटेड नेशस एजुकेशनल साइंटिफिक एंड कल्चरल आर्गेनाइजेशन (यूनेस्को) दिल्ली की किसी इमारत को यह सम्मान दिया है। सम्मान देने वाली ज्यूरी के प्रमुख डाग बिच हान ने कहा कि 'ज्यूरी संरक्षण प्रोजक्ट्स की वैभवपूर्ण प्रकृति से अत्यंत प्रभावित हुई। उन्होंने कहा कि पुरानी दिल्ली के 19 वीं सदी के एक विशिष्ट निवास स्थान को पुराने जर्जर हालात से निकालकर वैभवपूर्ण स्थल में बदलने का अनूठा काम किया गया है।'

गोयल ने कहा कि उन्होंने छह वर्ष पहले धर्मपुरा हवेली के संरक्षण का कार्य शुरू किया था, लेकिन दुर्भाग्य है कि शाहजहानाबाद बोर्ड, केंद्र सरकार और राज्य सरकार के पास ऐसी विरासतों को सहेजने के लिए कोई प्लान नहीं है। पूरी दुनिया में इमारतों की शक्ल में मौजूद इतिहास को बचाने के लिए बहुत कुछ हो रहा है। हमारे देश में भी चर्चाओं से आगे बढ़कर इसके लिए जरूरी प्रावधानों और ठोस उपायों की जरूरत है।

इस मौके पर पर्यटन विभाग (भारत सरकार) की सचिव रश्मि वर्मा, पुरातत्व विभाग की महानिदेशक उषा शर्मा, संयुक्त सचिव सुमन, प्रोफेसर महावीर (स्कूल ऑफ प्लानिंग) सहित अन्य लोग मौजूद थे। हवेली में वर्तमान में एक निजी कंपनी द्वारा होटल संचालित किया जा रहा है।

Posted By: Jagran