नई दिल्ली, राज्य ब्यूरो। पंजाब मेंं आम आदमी पार्टी के चुनाव घोषणा पत्र की तुलना श्री गुरु ग्रंथ साहिब से करने तथा इसके मुख्य पृष्ठ पर श्रीहरमंदिर साहिब की तस्वीर के साथ पार्टी का चुनाव चिन्ह झाड़ू छापने से सिखों मेंं भारी नाराजगी है। नाराज सिख बृहस्पतिवार को शिरोमणि अकाली दल बादल के दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष व दिल्ली सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी (डीएसजीपीसी) के अध्यक्ष मनजीत सिंह जीके की अगुआई मेंं मुख्यमंत्री आवास का घेराव करेंंगे। भाजपा ने भी आप पर लोगों की भावनाओं से खिलवाड़ करने का आरोप लगाया है।

अकाली कार्यकर्ता बृहस्पतिवार को सिविल लाइन स्थित चदगी राम अखाड़े से मुख्यमंत्री के निवास तक रोष मार्च करेंंगे। जीके ने कहा कि श्री गुरु ग्रंंथ साहिब जी की तुलना आप नेता आशीष खेतान द्वारा पार्टी के चुनाव घोषणा पत्र से करने के कारण सिखो की भावनाएं आहत हुई हैं। सिख आक्रोशित हैं, क्योकि श्री गुरु ग्रंंथ साहिब हमारे प्रत्यक्ष गुरु हैंं। इसलिए कोई भी सिख कभी भी अपने गुरु की तुलना किसी राजनीतिक दस्तावेज से किया जाना बर्दाश्त नहींं कर सकता।

टैंकर घोटाला : कपिल मिश्रा ने एलजी को लिखा पत्र, बोले- कानून सबके लिए बराबर है

चुनाव घोषणा पत्र के मुख्य पृष्ठ पर श्रीहरमंंदिर साहिब की तस्वीर पर पार्टी का चुनाव निशान झाड़ू छापने पर भी जीके ने एतराज जताया। उन्होने कहा कि श्रीहरमंदिर साहिब मेंं रोजाना लाखोंं श्रद्धालु पहुंचते हैं, विभिन्न धर्मो के श्रद्धालु भी यहां श्रद्धा के फूल भेंंट करते हैंं। इस गुरु घर की तस्वीर पर झाड़ू छापकर आम आदमी पार्टी ने अपनी सिख विरोधी मानसिकता को दर्शाने के साथ ही धार्मिक स्थान को अपनी संंकीर्ण राजनीति के लिए नीचा दिखाने की कोशिश की है।

5 दिन की रिमांड पर भेजे गए केजरीवाल के प्रधान सचिव राजेंद्र कुमार

भाजपा ने भी आम आदमी पार्टी पर लोगों की भावनाएं आहत करने का आरोप लगाया है। दिल्ली विधानसभा के नेता प्रतिपक्ष विजेंद्र गुप्ता ने कहा कि पजाब मेंं आप नेता ओछी राजनीति कर रहे हैं। आप नेता आशीष खेतान और विधायक नरेश यादव ने हाल ही मेंं धार्मिक भावनाओंं को आहत करने का जो काम किया है, वह उनकी हताशा का प्रतीक है।

मनोज तिवारी के सियासी सुर-ताल, गाना गाकर बताया CM केजरीवाल का हाल

विपक्ष के नेता ने मांंग की कि पजाब मेंं धार्मिक भावनाओंं को आहत करने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाए। ऐसे लोगों को सख्त सजा मिलनी चाहिए ताकि भविष्य मेंं कोई राजनीतिक फायदे के लिए इस तरह की हरकत नहींं करे। उन्होंंने आप नेताओंं से कहा कि वे धार्मिक भावनाओंं को चोट न पहुचाएं क्योंंकि धार्मिक सदभावना चुनाव जीतने से कहींं अधिक महत्वपूर्ण है।

Posted By: Amit Mishra

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस