राज्य ब्यूरो, नई दिल्ली : दिल्ली में इलेक्ट्रिक वाहन चार्जिग के स्टेशन स्थापित करने के लिए संभावित स्थानों की पहचान को लेकर चर्चा के लिए सोमवार को परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत ने बैठक बुलाई। बैठक में परिवहन मंत्री ने इलेक्ट्रिक वाहनों (ईवीएस) के प्रोत्साहन के लिए राजधानी में एक प्रभावी इलेक्ट्रिक वाहन चार्जिग ढांचा स्थापित करने पर जोर दिया।

गहलोत ने कहा कि दिल्ली में भूमि का अधिकार विभिन्न एजेंसियों के पास है। इस नीति के प्रभावी क्रियान्वयन के लिए ईवी फ्रेंडली सिस्टम बनाना अधिक महत्वपूर्ण है। मुझे खुशी है कि सभी भूमि स्वामित्व एजेंसियां मुख्यमंत्री के देश की राजधानी को ईवी राजधानी बनाने के लक्ष्य में सहयोग के लिए प्रतिबद्ध हैं। गहलोत ने कहा कि हम पहले से ही चार्जिग बुनियादी ढांचे को स्थापित करने के लिए संभावित स्थानों की पहचान करने में लगे हैं। अगले कुछ हफ्तों में अंतिम सूची तैयार हो जाएगी, जहां पर और स्टेशन बनाए जा सकते हैं।

दिल्ली इलेक्ट्रिक वाहन नीति 2020 के अंतर्गत 2024 तक होने वाले कुल नए वाहन पंजीकरण में से 25 फीसद बैट्री इलेक्ट्रिक वाहन (बीईवी) पंजीकरण का लक्ष्य है। ईवी चार्जिंग स्टेशनों की स्थापना के लिए चार्जिंग स्टेशनों को चलाने, रखरखाव और अपग्रेड करने के लिए एक उर्जा ऑपरेटर को नियुक्त करने के लिए एक केंद्रीकृत निविदा प्रणाली को अपनाया जाएगा। सार्वजनिक ईवी चार्जिग स्टेशनों की स्थापना के लिए भूमि प्रदाता एजेंसियों को भूमि प्रदान करनी होगी।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस