जागरण संवाददाता, पश्चिमी दिल्ली :

तिलक नगर थाना पुलिस ने एक ऐसी महिला को गिरफ्तार किया है जो एएसआइ बनकर बिना मास्क के घूम रहे लोगों का चालान कर उनसे पैसे वसूलती थी। पूछताछ में उसने पुलिस को बताया कि वह पुलिस में भर्ती होना चाहती थी, लेकिन कई बार प्रयास करने के बाद भी उसे सफलता नहीं मिली। इस बीच उसे आर्थिक तंगी का सामना करना पड़ रहा था। इसलिए उसने यह रास्ता चुना।

पश्चिमी जिला पुलिस उपायुक्त दीपक पुरोहित ने बताया कि आरोपित महिला की पहचान तमन्ना जहां के रूप में हुई। उसने पूछताछ में पुलिस को बताया कि उसने कई बार बिना मास्क पहने राहगीरों का चालान होते देखा। उसे पता था कि पुलिसकर्मी बिना मास्क पहने शख्स के ऊपर जुर्माना लगा सकती है। इसके बाद उसने अपने लिए वर्दी ढूंढ़नी शुरू की। उसे पता था कि किग्सवे कैंप की कई दुकानों में पुलिस की वर्दी बिकती है। इसके बाद उसने वहां जाकर एएसआइ रैंक के हिसाब से पहनी जाने वाली वर्दी खरीदी। इसके बाद उसने स्टेशनरी की दुकान से एक कच्चा बिल बुक खरीदा। वर्दी व बिल बुक के इंतजाम के बाद वह सड़क पर ऐसे लोगों पर जुर्माना लगाने लगी, जो बिना मास्क पहने नजर आते थे। पुलिस के अनुसार अब तक की छानबीन से पता चला है कि उसने पांच लोगों का चालान किया है। चालान के तहत वह 200 रुपये का जुर्माना करती थी।

ऐसे आई पुलिस की पकड़ में :

स्वतंत्रता दिवस के मद्देनजर अभी तिलक नगर थाना के पुलिसकर्मियों की गश्त चल रही है। इस क्रम में हेड कांस्टेबल सुमेर सिंह गश्त के दौरान क्षेत्र से गुजर रहे थे। इनकी नजर चालान काट रही इस महिला पर पड़ी। उन्हें शक हुआ और उन्होंने यह बात वरिष्ठ अधिकारियों को बताई। तिलक नगर थाना प्रभारी सुनील कुमार के नेतृत्व में पुलिस टीम मौके पर सादी वर्दी में पहुंची। टीम के कुछ कर्मी महिला के सामने से बिना मास्क के गुजरे। महिला ने उन्हें मास्क नहीं पहनने के लिए टोका और चालान करने की बात कही। पुलिसकर्मियों ने उससे पूछा कि वह कहां तैनात है तो उसने कहा कि उसकी तैनाती तिलक नगर थाने में है। पुलिसकर्मियों ने कहा कि वे भी तिलक नगर थाने में ही तैनात हैं। इसके बाद महिला घबरा गई और उसका भेद खुल गया। मामले की तहकीकात जारी है।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस