जागरण संवाददाता, बाहरी दिल्ली :

बेगमपुर इलाके में एक छात्रा दसवीं की प्री बोर्ड परीक्षा में शामिल नहीं हो सकी तो उसने अपहरण व लूट की झूठी कहानी गढ़ डाली। दरअसल छात्रा को अपने परिजनों की डांट का डर सताने लगा था, क्योंकि वह स्कूल देर से पहुंची थी और परीक्षा में नहीं बैठ सकी थी। हालांकि पुलिस की जांच में सच्चाई सामने आ गई तो उसे समझा बुझाकर घर भेज दिया।

पुलिस के अनुसार शुक्रवार सुबह दस बजे कॉल मिली थी कि बेगमपुर इलाके में एक लड़की को कुछ बदमाशों ने कार में अगवा कर लिया है। पीड़िता से सोने की चेन आदि लूटकर उसे कुछ दूर ले जाकर कार से नीचे उतार दिया व बदमाश फरार हो गए।

दिन दहाड़े भीड़ भाड़ भरे इलाके में हुई इस घटना की सूचना पर पुलिस तुरंत मौके पर पहुंची। यहां 17 वर्षीय छात्रा ने पुलिस को फिर से वही कहानी दोहराई। इस पर पुलिस ने कार का रंग, बदमाशों का हुलिया आदि के बारे में गहन पूछताछ की तो उन्हें छात्रा पर शक होने लगा व उसकी बातों में कई विरोधाभास नजर आए। इसके बाद छात्रा से कुछ महिला पुलिस कर्मियों ने पूछताछ की व इस दौरान उसकी काउंसिलिंग की तो छात्रा बहुत देर तक अपनी बात पर नहीं टिक सकी व सारी सच्चाई बता दी। उसने स्वीकारा कि उसे इलाके के सरकारी स्कूल में परीक्षा देने जाना था, लेकिन देर होने के कारण वह परीक्षा नहीं दे सकी थी। माता-पिता का आशंकित डांट-फटकार से घबराकर उसने यह कदम उठाया व अपहरण की कहानी रच डाली। छात्रा को समझा-बुझाकर घर भेज दिया गया है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस