मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

जागरण संवाददाता, नई दिल्ली : द्वारका एक्सप्रेस-वे के निर्माण में दिल्ली सरकार से सहयोग न मिलने पर द्वारका एक्सप्रेस-वे वेलफेयर एसोसिएशन (डीएक्सपीडब्ल्यूए) ने नाराजगी जताई है। मामले का जल्द समाधान न होने पर सरकार के खिलाफ मोर्चा खोलने का एलान किया है। डीएक्सपीडब्ल्यूए के पदाधिकारियों ने कहा कि आने वाले दिनों में वे मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के खिलाफ उनके घर के बाहर धरना देंगे और अनशन भी करेंगे।

वाइएमसीए में प्रेसवार्ता में डीएक्सपीडब्ल्यूए के अध्यक्ष यशीश यादव ने कहा कि पिछले नौ माह से एक्सप्रेस -वे निर्माण में बाधा बन रहे 13 हजार पेड़ों के स्थानातंरण की फाइल दिल्ली सरकार के पास लंबित है। दिल्ली सरकार अपने अहं की लड़ाई में कोई फैसला नहीं ले रही है। हम इन पेड़ों की कटाई नहीं बल्कि स्थानातंरण की मांग कर रहे हैं। भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण इन पेड़ों के स्थानातंरण और कटाई के एवज में अन्य पेड़ लगाने का खर्चा वहन करने को तैयार है, बावजूद इसके दिल्ली सरकार इस पर कोई फैसला नहीं ले रही।

उन्होंने कहा कि द्वारका एक्सप्रेस-वे का निर्माण न होने के चलते एनएच-8 पर लोगों को जाम का सामना करना पड़ता है। जाम व वाहनों के दबाव की वजह से वायु प्रदूषण बढ़ता है। आगामी चुनाव में जो पार्टी द्वारका एक्सप्रेस-वे के निर्माण का वादा करेगी उसी का समर्थन इस एक्सप्रेस-वे के पास की सोसायटियों के लोग करेंगे। उन्होंने कहा कि वह इस मामले में मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और लोक निर्माण विभाग के मंत्री सत्येंद्र जैन से मिल चुके हैं, लेकिन वह भाजपा से टकराव के चलते इस फाइल को मंजूरी नहीं दे रहे हैं। प्रेसवार्ता में डीएक्सपीडब्ल्यूए के उपाध्यक्ष कोमल आहूजा व महामंत्री प्रदीप राही के अलावा सदस्य गौरव प्रकाश, सैयद समीर उपस्थित रहे।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप