नई दिल्ली, जेएनएन। दिल्ली मेट्रो रेल कॉरपोरेशन (डीएमआरसी) की मेट्रो में बायोमीट्रिक प्रणाली टोकन और स्मार्ट कार्ड के साथ ही यात्रियों की पहचान का भी मजबूत और आसान विकल्प बनने जा रही है। आने वाले दिनों में आप बिना टोकन व स्मार्ट कार्ड के अपनी अंगुलियों की पहचान (फिंगर प्रिंट) के जरिये ही मेट्रो किराये का भुगतान कर सकेंगे। इतना ही नहीं, अब तक स्मार्ट कार्ड से भुगतान पर मिलने वाली छूट अब बायोमीट्रिक प्रणाली पर भी लागू होगी।

अंगुली लगाते ही होगा भुगतान
इसमें कुछ विशेष यात्रियों को किराये में और अधिक रियायत दी जा सकती है। हालांकि, किन यात्रियों को कितनी छूट देनी है, इसका निर्धारण होना अभी बाकी है। बताते चलें कि डीएमआरसी की योजना के अनुसार, 14 करोड़ 51 लाख रुपये की लागत से मेट्रो स्टेशनों पर बायोमीट्रिक आधारित फेयर कलेक्शन गेट लगाए जाएंगे। इसका डिजाइन तैयार करने व गेट लगाने के लिए डीएमआरसी ने एजेंसियों की तलाश शुरू कर दी है।

फिंगर प्रिंट सेंसर से होगा काम
इन गेटों में फिंगर प्रिंट सेंसर लगे होते हैं, जिसमें यात्रियों को अपना फिंगर प्रिंट पंजीकृत कराना होगा। स्टेशन पर प्रवेश करने व बाहर निकलने पर दो बार अंगुली पंच करनी पड़ेगी। स्टेशन से बाहर निकलते वक्त अंगुली पंच करने पर आधार कार्ड से जुड़े बैंक अकाउंट से किराया स्वत: ही कट जाएगा। अकाउंट में पैसा कम होने पर यात्री गेट से बाहर नहीं निकल पाएंगे।

ये भी रहेगा विकल्‍प
उन्हें नकद या क्रेडिट कार्ड से किराया भुगतान करना पड़ सकता है। बायोमीट्रिक प्रणाली के जरिये यात्रियों की पहचान करने के साथ ही कुछ विशेष वर्ग को किराये में छूट दी जा
सकती है। इस पर अभी डीएमआरसी विचार कर रहा है।