जागरण संवाददाता, नई दिल्ली

दिल्ली टेक्नोलॉजिकल विश्वविद्यालय (डीटीयू) के छात्रों की तरफ से इवनिंग बीटेक कोर्स को लेकर प्रशासन पर सवाल उठाए गए हैं। छात्रों का कहना है कि डीटीयू प्रशासन उनके साथ धोखा कर रहा है। छात्रों ने कहा कि इवनिंग बीटेक कोर्स को जो छात्र पढ़ रहे हैं वह पार्ट टाइम कोर्स है। इसकी जानकारी प्रशासन ने छात्रों को नहीं दी। अभी इवनिंग बीटेक कोर्स में प्रथम से लेकर चौथे वर्ष में कुल 750 छात्र पढ़ाई कर रहे हैं।

डीटीयू छात्र संघ के सदस्य और संघ के इवनिंग कोऑडिनेटर अपरनेंदु राम त्रिपाठी का दावा है कि इवनिंग कोर्स 2015 से पहले पार्ट टाइम था। साल 2015 में इसे विश्वविद्यालय प्रशासन द्वारा अध्यादेश लाकर फुल टाइम कर दिया गया। लेकिन 2018 में आरटीआइ के जरिये जानकारी मिली की यह पाठ्यक्रम पार्ट टाइम ही है। इसका सिर्फ नाम बदला गया है। इस मामले में प्रशासन के अधिकारियों से दस अगस्त 2018 को बैठक भी की गई। जिसमें अधिकारियों ने कोई समाधान नहीं निकाला। हमने 11 नवंबर को उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया को भी अवगत कराया था। बाक्स

केजरीवाल के आवास पर प्रदर्शन

इवनिंग बीटेक को फुट टाइम कार्स करने के लिए सोमवार को 150 की संख्या में डीटीयू के छात्र सीएम अरविंद केजरीवाल के आवास पर मिलने पहुचे। इस दौरान उन्होंने अपनी मांगों के लिए नारेबाजी की और प्रदर्शन भी किया।

13 दिसंबर को दीक्षा समारोह में करेंगे विरोध प्रदर्शन

अपरनेंदु राम त्रिपाठी ने कहा कि 13 दिसंबर को दीक्षा समारोह के उपलक्ष्य में उपराज्यपाल अनिल बैजल, उपमुख्यमंत्री एवं शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया भी कार्यक्रम में आ सकते हैं। हम उनके सामने मुद्दा उठाएंगे। उपराज्यपाल चांसलर हैं। वहीं हम प्रशासन के खिलाफ विरोध प्रदर्शन भी करेंगे।

प्रशासन की सफाई

डीटीयू के जनसंपर्क अधिकारी अनुप लाथर ने कहा कि हम विश्वविद्यालय अनुदान समिति (यूजीसी) और अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद (एआइसीटीई) के नियमों के तहत छात्रों की समस्या का समाधान निकालने के लिए प्रतिबद्ध हैं। हमारी नीति रही है कि छात्रों की समस्याओं को सुना जाए और उस पर फैसला लिया जाए। इस मामले में भी छात्रों की बातों को सुना जाएगा।

Posted By: Jagran