जागरण संवाददाता, नई दिल्ली :

भारत सरकार ने राष्ट्रीय सुरक्षा मद्देनजर 59 चीनी एप पर प्रतिबंध लगा दिया, जिसके बाद सोशल मीडिया यूजर्स, टिक टॉक यूजर्स ने सरकार के इस फैसले का स्वागत किया। जैसे ही शॉर्ट वीडियो मेकिग एप गूगल प्ले स्टोर से हटाया गया, वैसे ही ट्विटर पर हैशटैग आरआईपी टिकटॉक ट्रेंड करने लगा। देशभर के लोग इस फैसले पर अपनी खुशी जाहिर करने के लिए मीम्स, फनी पोस्ट साझा करने लगे। ट्विटर पर दिनभर हैशटैग रिप-टिकटॉक ट्रेंड किया। डिजिटल स्ट्राइक :

ट्विटर पर भारत के इस कदम को डिजिटल एयर स्ट्राइक कहा गया। अभिषेक सिंह ने ट्वीट किया कि पाकिस्तान पर एयर स्ट्राइक के बाद चीन पर डिजिटल स्ट्राइक। पूरी दुनिया इसे याद रखेगी। वहीं अंकिता ने ट्वीट किया कि इससे ये बात तो साफ हो गई कि भारत अब किसी भी देश के दबाव में झुकेगा नहीं। भारत अब आत्मनिर्भर बनने की राह पर चल पड़ा है। हालांकि कई ऐसे भी लोग थे जो भारतीय आइटी कंपनियों से इस मौके का फायदा उठाने की गुजारिश भी करते नजर आए। सूरज सिन्हा ने ट्वीट किया कि विदेशों में भारत की पहचान आइटी हब के रूप में है। लेकिन यह दुर्भाग्य ही था कि भारत में शार्ट वीडियो मेकिग एप विदेशी कंपनियों का लोकप्रिय हो रहा था। अब भारतीय कंपनियों के लिए सुअवसर है। अब जब टिक-टॉक पर भारत ने प्रतिबंध लगाया तो स्वाभाविक है कि यूट्यूबर की खुशी बढ़ गई। यूट्यूब और टिक-टॉक स्टार के बीच रार से जुड़ी खबरें विगत कई महीनों से मीडिया में भी सुर्खियां बटोर रही थी। इस बीच, देश में टिकटॉक समुदाय ने भी अपना समर्थन दिखाया है और टिक-टॉक सहित 59 चीनी एप पर प्रतिबंध लगाने पर सरकार के इस फैसले का स्वागत किया।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस