जागरण संवाददाता, दक्षिणी दिल्ली :

कोरोना वायरस की आड़ में मास्क पहने की अनिवार्यता का फायदा अपराधी भी उठा रहे हैं। हाल ही में आइआइटी फ्लाईओवर के पास मास्क पहने हुए बाइक सवार बदमाशों ने एक निजी कंपनी के पायलट के साथ ही अन्य राहगीरों से लूटपाट की थी। कोरोना संकट से जूझ रही पुलिस की चुनौतियों को मास्क ने और बढ़ा दिया है। हालांकि, इन चुनौतियों से निपटने के लिए पुलिस भी लगातार प्रयास कर रही है। शनिवार को दक्षिणी दिल्ली जिले के पुलिस उपायुक्त अतुल ठाकुर व अतिरिक्त पुलिस उपायुक्त परविदर सिंह के नेतृत्व में जिले के 25 पेट्रोल पंप मालिकों व उनके मैनेजरों के साथ वीडियो कान्फ्रेंसिग के जरिये मीटिग की गई।

इस दौरान पुलिस अधिकारियों ने सभी से कहा कि वे अपने पेट्रोल पंपों पर व आसपास इस तरह से सीसीटीवी कैमरे लगाएं कि पूरा परिसर कवर हो सके। आसपास रात में उजाले की भी पूरी व्यवस्था की जाए। पंप पर ऑनलाइन पेमेंट को बढ़ावा दें। अपने सभी स्टाफ का पुलिस वेरिफिकेशन अवश्य कराएं, पेट्रोल पंप पर पर्याप्त संख्या में सुरक्षा गार्ड रखें, कैश ले जाने के लिए हथियारबंद सुरक्षाकर्मी रखें और कैश के लिए बंद गाड़ी का प्रयोग करें। कोविड-19 से बचाव के लिए सभी उपाय अपनाएं। पेट्रोप पंप मालिकों ने मांग की कि पुलिस पंपों का निरीक्षण कर यह बताए कि कैमरे कहां लगाना उचित रहेगा। उन्होंने पूछा कि क्या वे अपने सुरक्षागार्डोँ को रबर बुलेट वाले हथियार रखने के लिए लाइसेंस दे सकते हैं।

अतुल ठाकुर ने दैनिक जागरण से बताया बताया कि यह रूटीन मीटिग थी। सुरक्षा-व्यवस्था को लेकर राजधानी में मार्केट एसोसिएशन, व्यापारी वर्गो के लोगों के साथ मीटिग की जाती है, ताकि उन्हें सुरक्षा के प्रति सचेत रखा जा सके।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस