नई दिल्ली [लोकेश चौहान]। जैसे-जैसे चुनाव नजदीक आता जा रहा है, वैसे-वैसे अपने नेता के समर्थन का तरीका बदलता जा रहा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के समर्थकों ने उन्हें समर्थन देने के लिए भी नया तरीका अपना लिया है। सोशल मीडिया पर अपने नाम के आगे चौकीदार लिखने का ट्रेंड चल पड़ा है। दिल्ली में भाजपा के सांसद और विधायक से लेकर आम लोग तक अपने ट्विटर हैंडल में अपने नाम के साथ चौकीदार शब्द जोड़ रहे हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अपने ट्विटर हैंडल पर चौकीदार शब्द जोड़ने के बाद उन्हें और भाजपा को सपोर्ट करने वाले लोग लगातार अपने नाम के साथ यह शब्द जोड़ रहे हैं। कोई नाम के पहले तो कोई बाद में चौकीदार जोड़ रहा है। ट्विटर पर कई लोग तो ऐसे भी हैं, जिन्होंने अपने नाम के साथ लगे उपनाम को हटाकर उसकी जगह चौकीदार जोड़ लिया है। वहीं कुछ लोगों ने अपने नाम को बदलकर चौकीदार ही कर लिया है।

केंद्रीय मंत्रियों के साथ कई प्रदेशों के मुख्यमंत्रियों और उपमुख्यमंत्रियों ने भी अपने नाम से पहले चौकीदार जोड़ लिया है। वहीं दिल्ली से भाजपा के मंत्री विजय गोयल और हर्षवर्धन, सांसद मनोज तिवारी, महेश गिरी, रमेश बिधूड़ी, मीनाक्षी लेखी, प्रवेश वर्मा, नेता प्रतिपक्ष विजेंद्र गुप्ता और विधायक ओपी शर्मा ने भी अपने नाम से पहले चौकीदार शब्द जोड़ लिया है।

इनके अलावा हजारों की संख्या में ऐसे युवा हैं, जिन्होंने ऐसा किया है। इन युवाओं में अधिकतर भाजपा से जुड़े हुए हैं। विभिन्न क्षेत्रों में कार्य करने वाले युवा इस समय चौकीदार का प्रयोग अपने नाम के साथ कर रहे हैं।

’विश्वास का प्रतीक है चौकीदार अभियान’
 दिल्ली विधानसभा में प्रतिपक्ष के नेता विजेंद्र गुप्ता ने कहा कि मैं भी चौकीदार अभियान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी में जन-जन के विश्वास का प्रतीक है। भाजपा दिल्ली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की पांच वर्षों की कठोर साधना के निचोड़ मैं भी चौकीदार को जन-जन तक पहुंचाने के लिए व्यापक अभियान चलाएगी।
मैं भी चौकीदार का नारा सोशल मीडिया और विभिन्न प्रचार तंत्रों में लोकप्रिय हो रहा है। इससे विपक्ष में जहां एक ओर चिंता बढ़ रही है वहीं दूसरी ओर प्रधानमंत्री की क्षमता और कार्यशैली में जनता का विश्वास और मजबूत हो रहा है। जनता को मालूम है कि प्रधानमंत्री मोदी देश के चौकीदार हैं और हर नागरिक भी उनकी तरह चौकीदार है।