नई दिल्ली [संजीव गुप्ता]। दिल्ली सचिवालय में एक जून से एकल उपयोग प्लास्टिक की सभी वस्तुएं प्रतिबंधित होंगी। पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने शनिवार को बताया कि ‘यूज एंड थ्रो वाली पेन और पानी की बोतलें आदि कुछ भी इस्तेमाल नहीं की जाएंगी। इनके स्थान पर धातु, बांस, कागज और मिट्टी से बनी वस्तुओं के प्रयोग पर जोर दिया जाएगा।

प्रदूषण पर रोकथाम के लिए उठाए जा रहे जरूरी कदम

पर्यावरण मंत्री ने कहा कि प्रदूषण की रोकथाम के लिए दिल्ली में सभी जरूरी कदम उठाए जा रहे हैं। इस क्रम में प्रदूषण के खिलाफ समर एक्शन प्लान की शुरुआत की गई है। वहीं, एकल उपयोग प्लास्टिक पर पाबंदी की तैयारी है।

एक बार उपयोग के बाद नहीं होता है कटलरी का उपयोग

स्ट्रा, प्लास्टिक के गिलास, कांटे जैसे तमाम प्लास्टिक की वस्तुएं एक बार उपयोग के बाद फेंक दिए जाते हैं। इन्हें दोबारा उपयोग में नहीं लाया जा सकता। ऐसे में कई बार लोग इन्हें समाप्त करने के लिए जमीन में दबाकर या जलाकर नष्ट करने की कोशिश करते हैं। लेकिन, यह वायु, जल और भूमि प्रदूषण के लिए गंभीर खतरा साबित होता है।

एकल उपयोग प्लास्टिक की वस्तुओं के उपयोग के लिए जागरूकता अभियान जरूरी

गोपाल राय ने कहा कि एकल उपयोग प्लास्टिक की वस्तुओं का उपयोग रोकने के लिए जागरूकता अभियान जरूरी है। एकल उपयोग प्लास्टिक की जगह अब बांस, कांच, धातु या पेपर से बनी कटलरी को प्रयोग में लाया जाएगा। वहीं, जेल-बाल या इंक पेन का प्रयोग किया जाएगा। जबकि, प्लास्टिक के बैनर्स और पोस्टर की जगह अब कपड़े या कागज के बैनर ही बनाए जाएंगे।

Edited By: Prateek Kumar