जागरण संवाददाता, पश्चिमी दिल्ली : नजफगढ़ थाना पुलिस ने मैट्रीमोनियल साइट के जरिये एक युवती से दोस्ती कर उसके साथ दुष्कर्म करने के आरोपित साफ्टवेयर इंजीनियर को गिरफ्तार किया है। शादीशुदा होने के बावजूद आरोपित ने खुद को साइट पर कुंवारा बताया था। आरोपित ने पीड़िता से शादी कर ली और बाद में उसे छोड़कर वह फरार हो गया। पुलिस मामले की जांच में जुटी है। द्वारका के जिला पुलिस उपायुक्त शिबेश ¨सह ने बताया कि 31 मई को एक युवती ने नजफगढ़ थाने में दुष्कर्म की शिकायत दी। शिकायत में उसने बताया कि मई 2016 में जीवनसाथी डॉट कॉम के जरिये उसकी मुलाकात एक व्यक्ति से हुई थी। साइट पर उसने खुद को गुरुग्राम की एक कंपनी में साफ्टवेयर इंजीनियर के पद पर कार्यरत बताया था और सालाना आमदनी 30 लाख रुपये बताया था। पिछले वर्ष दोनों ने शादी कर ली। बाद में युवती को पता चला कि जिस शख्स से उसने शादी की है वह शादीशुदा है और उसके दो बच्चे हैं। उसके बाद आरोपित युवती को छोड़कर वह किसी अंजान जगह पर चला गया। पीड़िता की शिकायत पर पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू की। पुलिस आरोपित के बारे में जानकारी जुटाने लगी। नजफगढ़ के एसीपी एसपी त्यागी की देखरेख व एसएचओ नरेश सांगवान के नेतृत्व में बनी पुलिस टीम ने गुरुग्राम स्थित कंपनियों में आरोपित की तलाश शुरू की। पुलिस को उस कंपनी का पता चल गया, जिसमें वह काम कर चुका था। वहां से पुलिस को गाजियाबाद के सादिक नगर का पता मिला। पुलिस की टीम ने तुरंत उस पते पर दबिश दी। आरोपी वहां नहीं मिला। काफी तलाश के बाद पुलिस ने पीड़िता के परिवार से पूछताछ कर आरोपी के बारे में कुछ और जानकारी जुटाई। पीड़िता ने पूछताछ में बताया कि आरोपित ने उसे एक बार खुद की कंपनी खोलने की बात कही थी। पुलिस ने गूगल पर इस कंपनी की तलाश की। पुलिस को कंपनी का नाम मिल गया और कंपनी के निदेशक के रूप में आरोपित का नाम था। कंपनी के नाम से स्टेट बैंक ऑफ इंडिया का एक बैंक खाता नंबर मिला। पुलिस मुरादनगर, गाजियाबाद स्थित एसबीआइ की शाखा में पहुंची। यहां से पुलिस को आरोपित के घर का पता मिल गया। पुलिस की टीम ने इस सूचना पर उस मकान पर छापा मारकर आरोपित को गिरफ्तार कर लिया। पुलिस के अनुसार आरोपित ने पूछताछ में बताया कि पीड़िता से शादी करने के बाद वह उसे छोड़कर भागने की फिराक में पहले से ही था।

By Jagran