नई दिल्ली [संजीव गुप्ता]। दिल्ली-एनसीआर में हल्की फुल्की बारिश का दौर जारी है। शुक्रवार को दिनभर बादल छाए रहे और कुछ इलाकों में बारिश हुई, लेकिन हल्की। दरअसल,  इस साल लंबा मानसून अक्टूबर के पहले सप्ताह तक सक्रिय रहने की संभावना है। मौसम विभाग का कहना है कि अभी कम से कम अगले 10 दिनों तक बारिश का दौर थमने की उम्मीद नहीं है। भारत मौसम विज्ञान विभाग (आइएमडी) के अनुसार मानसून की वापसी (पश्चिम राजस्थान से शुरू होकर) की शुरुआत की सामान्य तिथि 17 सितंबर है। बारिश का मौसम 30 सितंबर तक समाप्त होता है। इस साल मानसून की वापसी में दो सप्ताह से अधिक की देरी होने की संभावना है।

आइएमडी महानिदेशक डा. मृत्यंजय महापात्रा ने बताया, हम बंगाल की खाड़ी से अंतर्देशीय स्तर पर एक के बाद दो और लो-प्रेशर सिस्टम आने की उम्मीद कर रहे हैं। इनमें से एक 26 सितंबर से ओडिशा को प्रभावित करना शुरू कर देगा, और दूसरा दो-तीन दिन बाद आएगा। यह दोनों सिस्टम मध्य भारत, पूर्व और उत्तर-पश्चिम के आसपास के हिस्सों में झमाझम बारिश देंगे, जिससे देश से मानसून की वापसी में देरी होगी। उन्होंने यह भी बताया कि अगर पूर्वानुमान के रूप में ये दोनों लो प्रेशर सिस्टम सही ढंग से प्रभाव डालने में सफल रहे तो सितंबर में ऐसे पांच सिस्टम हो जाएंगे, जो इस 12 महीनों में किसी भी मानसून महीने के लिए सर्वश्रेष्ठ होंगे। जुलाई में बंगाल की खाड़ी से बारिश लाने वाले चार लो प्रेशर सिस्टम थे, जबकि जून और अगस्त में दो-दो रहे थे।

मानसून की वापसी में 2 सप्ताह की देरी संभव

मृत्युंजय महापात्रा ने आगे कहा कि अगले दस दिनों तक अक्टूबर के पहले सप्ताह तक मानसून की वापसी की संभावना नहीं है। हम इन 10 दिनों से अधिक की अवधि पर टिप्पणी नहीं कर रहे हैं क्योंकि प्रामाणिकता कम हो जाती है। मानसून की वापसी की शुरुआत की सामान्य तिथि 17 सितंबर है और बारिश का मौसम 30 सितंबर को समाप्त होता है, लेकिन इस बार बंगाल की खाड़ी में 26 से लो-प्रेशर सिस्टम बनने की संभावना से इस साल इसमें दो सप्ताह से अधिक की देरी हो सकती है।

Kisan Andolan: केंद्र सरकार के साथ बातचीत को लेकर राकेश टिकैत ने किया बड़ा एलान

Edited By: Jp Yadav