नई दिल्ली, जागरण डिजिटल डेस्क। तकनीकी खामी के चलते दिल्ली मेट्रो रेल निगम की सेवाओं का बाधित होना आम बात है, लेकिन रविवार शाम को ब्लू लाइन रूट पर तकरीबन 30 मिनट तक मेट्रो रेल सेवा बाधित रहीं। दरअसल, मेट्रो टनल के अंदर एक युवक बेहोश था, जब ड्राइवर की नजर उस पर पड़ी तो ट्रेन रोक दी। युवक बेहोश हालत में था और कुछ हद तक झुलसा हुआ था। ऐसे में ट्रेन आपरेटर ने तुरंत आपाकालीन ब्रेक लगाकर ट्रेन रोक दी।  इसके बाद इंसानियत दिखाते हुए ट्रेन आपरेटर ने युवक को ट्रैक से उठाकर मेट्रो ट्रेन में बैठाया और फिर बेहोशी की हालत में लेकर प्रगति मैदान पहुंचा। यहां से उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां पर फिलहाल उस युवक का इलाज चल रहा है।

युवक की पहचान बिहार के मोतिहारी जिले के रहने वाले दीपक कुमार (21) के रूप में हुई। बताया जा रहा है कि गलतफहमी के चलते दीपक टनल से जाने के दौरान बिजली की चपेट में आ गया होगा। इससे वह झुलस गया होगा और बेहोशी के चलते गिर गया होगा। फिलहाल उसका इलाज जारी है। 

मिली जानकारी के मुताबिक, युवक के साथ हुई घटी यह घटना रविवार शाम 7 बजे के आसपास की है। हुआ यूं ब्लू लाइन ट्रेन मंडी हाउस से प्रगति मैदान की ओर जा रही थी। टनल के अंदर गुजरने के दौरान ट्रेन आपरेटन ने देखा कि टनल के अंदर एक युवक पड़ा है। ट्रेन आपरेटर ने तत्काल आपात ब्रेक लगाकर ट्रेन रोकी। इसके बाद अपने साथी के साथ युवक के नजदीक गया और उसे लाकर मेट्रो ट्रेन में लिटा दिया। इसके साथ  आसपास के स्टेशन कंट्रोलरों को भी इसकी सूचना दी। इस दौरान तकरीबन 30 मिनट तक ब्लू लाइन रूट पर ट्रेनों का परिचालन प्रभावित रहा। बताया जा रहा है कि नोएडा और कौशांबी की तरफ से आकर द्वारका जाने वालीं कुछ ट्रेनों को यमुना बैंक से ही डायवर्ट करना पड़ा।

 

Edited By: Jp Yadav