नई दिल्ली, आनलाइन डेस्क। फ्रेंडशिप डे (Friendship Day) इस दिन का नाम ही लेते ही युवाओं की आवाज चहक उठती है। खैर दोस्तों की बात हो तो क्या युवा क्या बूढ़े। हर किसी की जुबा पर दोस्त का नाम आते ही चेहरे पर मुस्कुराहट आ जाती है। लोग दोस्तों से हर तरह की बातें शेयर करते हैं मस्ती करते हैं घूमते है साथ खाते पीते हैं। कुल मिला कर ये कहें तो दोस्ती एक ऐसा आभास है जो आपकी जिंदगी के गहरे से गहरे रंग को सतंरगी बना दे।

कब है फ्रेंडशिप डे

भारत में फ्रेंडशिप डे की बात की जाए तो यह हर साल अगस्त के महीने में पहले रविवार को मनाया जाता है। इस बार अगस्त की पहली ही तारीख को रविवार होने के कारण इस बार अगस्त की शुरुआत दोस्ती के खास दिन फ्रेंडशिप डे से होगी।

क्या करते हैं इस दिन

फ्रेंडशिप डे एक अगस्त को मनाया जाएगा। इस दिन दोस्त अपनी तरफ से दूसरे दोस्त को प्यार और जज्बात से भरे मैसेज भेज कर बधाई देते हैं। इस दिन को लोग मैसेज-इमेज या फिर इमोजी भेज कर दोस्ती का इजहार करते हैं। कपल हो या दोस्त हर कोई अपने शब्दों के लिफाफे में जजबात भर कर दोस्त को अपना पैगाम भेजते हैं।

इस बार क्यों खास है फ्रेंडशिप डे

इंटरनेशनल फ्रेंडशिप डे इस बार खास होने जा रहा है। इस बार खास होने का कारण है काेविड के कारण मिली कुछ रियायतें। सरकार ने कोरोना के कम होते मामले के बीच सिनेमाघर थियेटर जैसी जगहों को खोलने की इजाजत दी है। बाजार भी खुल रहे है। कुछ समय पहले तक कोरोना के कारण इन जगहों की रौनक ही खो गयी थी क्योंकि, लॉकडाउन में किसी को घर से निकलने की इजाजत नहीं थी।

जानें क्या कहते हैं युवा

पढ़ाई करने वाली सिया कहती हैं कि इस बार का फ्रेंडशिप डे खास होने वाला है। उन्होंने बताया कि सुजल चौहान, ध्रुव हुडा, रिषभ ठाकुर एवं सागर दहिया उनके खास मित्र हैं जिनके साथ वह इस बार अपना फ्रेंडशिप डे सेलिब्रेट करने वाली हैं। हालांकि कोरोना के कारण बाहर निकनले से परहेज करते हुए घर से ही विश करके मनाने का मन बनाया है। उन्होंने आगे कहा कि कोरोना की वजह से हम दो सालों में ज्यादा समय साथ नहीं बिता पाए हैं। कोरोना या कोई भी बीमारी हमारी दोस्ती कम नहीं कर सकती है। दोस्त वह परिवार होता है जिसे हम खुद चुनते हैं। इस दोस्ती को अंत तक निभाएंगे। वहीं, सुजल ने बताया कि फ्रेंडशिप डे हम दोस्तों के लिए खास होता है। उन्होंने कहा कि दोस्ती का यह साथ कभी नहीं टूटेगा।

Edited By: Prateek Kumar