नई दिल्ली [आशीष गुप्ता]। पूर्वी दिल्ली स्थित गाजीपुर फल व सब्जी मंडी (Delhi Ghazipur fruit and vegetable market) में सब्जी और फल के अलावा नियमों के विरुद्ध पनीर, चाप, खोआ, मक्खन और दही भी बेचा जा रहा है। जिस पर कृषि उपज विपणन समिति की नजर नहीं है। या यूं कहें कि नजर डाली नहीं जा रही। एक-दो दिन से नहीं महीनों से सब्जी की आढ़त में दुग्ध उत्पादों का कारोबार किया जा रहा है। इसे लेकर कई बार शिकायतें भी हुईं। फिर भी अवैध तरह से कारोबार बेरोकटोक जारी है।

इस मंडी का संचालन दिल्ली कृषि उपज विपणन (विनियमन) अधिनियम 1998 और दिल्ली कृषि उपज विपणन (विनियमन) नियमावली 2000 के तहत किया जाता है। इस मंडी में केवल सब्जियां और फल थोक में बेचे जा सकते हैं। लेकिन नियमों को दरकिनार कर यहां कई आढ़ती अपनी आढ़त में बड़े स्तर पर दुग्ध उत्पादों का कारोबार चला रहे हैं। ऐसा नहीं कि ये आढ़ती चोरी छुपे ये कारोबार कर रहे हैं। आढ़त के बाहर काउंटर लगा रखा है, जिस पर अपना फोन नंबर समेत बेचे जाने वाले दुग्ध उत्पादों के नाम लिखे हुए हैं। इनमें से कुछ आढ़ती तो किराये पर आढ़त लेकर कारोबार कर रहे हैं, जोकि गलत है। धीरे-धीरे मंडी में दुग्ध उत्पाद बेचने वालों की संख्या बढ़ती जा रही है।

इस बारे में गाजीपुर फल व सब्जी मंडी विपणन समिति के अध्यक्ष सत्यदेव प्रसाद गुप्ता का कहना है कि अधिकारियों को जांच के लिए भेजा जाएगा। नियम विरूद्ध कारोबार कर रहे आढ़तियों पर कार्रवाई की जाएगी। बता दें कि पूर्वी दिल्ली स्थित गाजीपुर फल और सब्जी मंडी में रोजाना लाखों रुपये का कारोबार होता है।

Coronavirus: निश्चिंत रहें पूरी तरह सुरक्षित है आपका अखबार, पढ़ें- विशेषज्ञों की राय व देखें- वीडियो

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021