नई दिल्‍ली, जागरण संवाददाता। मातृसदन में अनशन करने वाली साध्‍वी पद्मावती की सोमवार को अचानक से तबियत ज्‍यादा खराब हो गई जिसके बाद उन्‍हें दिल्‍ली के एम्‍स में भर्ती कराया गया। साध्‍वी पदमावती को दिल्‍ली एम्‍स में भर्ती कराने के लिए ग्रीन कॉरिडोर भी बनाया गया।

गंगा की अविरलता के लिए अपनी मांगों को लेकर 65 दिन से आमरण अनशन कर रही सांध्वी पद्मावती को हरिद्वार से ग्रीन कॉरिडोर बनाकर सोमवार देर रात एंबुलेंस से दिल्ली लाया गया और उन्हें एम्स में भर्ती कराया गया है। जहां उन्हें आइसीयू में भर्ती किया गया है। उन्हें वेंटिलेटर स्पोर्ट भी दिया गया है और वह अचेता अवस्था में हैं। एम्स के मेडिसिन विभाग के विशेषज्ञ डॉक्टर के नेतृत्व में उनका इलाज चल रहा है। अभी उनकी हालत गंभीर बनी हुई है।

एम्स के अनुसार उन्हें रात 10:26 मिनट पर एम्स में भर्ती किया है। उनके ब्रेन में इंफेक्शन होने की बात कही जा रही है। मंगलवार सुबह उनके ब्रेन की सीटी स्कैन जांच की गई। सीटी स्कैन जांच में इंफेक्शन या किसी तरह की परेशानी की बात सामने नहीं है।

इसके मद्देनजर डॉक्टरों की टीम ने उनकी एमआरआइ जांच कराने का फैसला किया है। एफआरआइ जांच की रिपोर्ट से ही पता चल सकेगा कि उन्हें किस तरह की परेशानी है। एम्स से मिली जानकारी के अनुसार उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने भी उनके स्वास्थ्य की जानकारी ली है।

क्‍यों बैठी हैं अनशन पर

साध्वी पद्मावती पिछले 15 दिसंबर, 2019 से गंगा की रक्षा से जुड़ी मांगों को लेकर अनशन पर बैठी हैं। उनकी कुछ छह मांगे हैं। अनशन के दौरान सोमवार को उनकी तबियत खराब हो गई।

यह है साध्‍वी की मांगें

  • गंगा पर निर्माणाधीन व प्रस्तावित सभी बांधों को निरस्त किया जाए
  • गंगा में प्राकृतिक प्रवाह को दुरुस्त रखने के लिए ई-फ्लो(पयार्वरण प्रवाह) की ठोस व्यवस्था बनाई जाए
  • गंगा में खनन से संबंधित एनजीटी के आदेशों का अक्षरश: पालन किया जाए
  • गंगा एक्ट के लिए सरकार राष्ट्रीय स्तर पर विस्तृत चर्चा करे
  • एनजीटी के जज राघवेंद्र राठौर को गंगाद्रोही घोषित किया जाए
  • हरिद्वार एसएसपी सेंथिल अबुदई कृष्णराज.एस को निलंबित कर उनकी जांच की जाए

 

Posted By: Prateek Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस