नई दिल्ली, जेएनएन। दिल्ली विकास प्राधिकरण (डीडीए) ने नई आवासीय योजना 2019 को मंजूरी देकर दिल्लीवासियों को बड़ी सौगात दी है। इस योजना में कुल 10,300 फ्लैट के लिए ऑनलाइन आवेदन किया जा सकेगा। एक-दो दिन में विज्ञापन के जरिये योजना और आवेदन की तारीख की घोषणा कर दी जाएगी। उपराज्यपाल एवं डीडीए के अध्यक्ष अनिल बैजल की अध्यक्षता में सोमवार को बोर्ड की बैठक हुई। इसमें डीडीए की इस नई योजना को स्वीकृति दी गई। योजना के तहत राजधानी के विभिन्न स्थानों पर अलग-अलग श्रेणियों के निर्माणाधीन कुल 10,300 फ्लैट का निर्माण हो रहा है। इनमें जल आपूर्ति तथा एसटीपी का काम बाकी है, जो जुलाई, 2019 तक पूरा कर लिया जाएगा।

विभागीय प्रभारों व ब्याज में दी गई है छूट
समाज के आर्थिक रूप से कमजोर वर्ग (ईडब्ल्यूएस) को राहत प्रदान करने के उद्देश्य से डीडीए ने निर्माण के समय विभागीय प्रभारों और ब्याज में छूट दी है। इससे नई योजनाओं के अंतर्गत आवंटित होने वाले प्रत्येक ईडब्ल्यूएस फ्लैट की लागत में 2.50 लाख की कमी आएगी। एक बार में लिए जाने वाले रखरखाव प्रभारों को भी 50 फीसद कम किया गया है।

मेंटेनेंस शुल्क में भी मिली राहत
आवासीय योजना-2014 में द्वारका, रोहिणी, नरेला व सिरसपुर में 10748 फ्लैट और आवासीय योजना 2017 में रामगढ़ कॉलोनी में 3364 फ्लैट आवंटित किए गए थे। इनके आवंटी फ्लैट का आकार छोटा व कीमत अधिक होने को लेकर शिकायत कर रहे थे। इन्हें अब मेंटेनेंस शुल्क पर 50 फीसद छूट दी गई है। इसे फ्लैट की लागत के शेष 10 फीसद में समायोजित किया जाएगा।

यहां मिलेंगे फ्लैट
डीडीए की नई आवासीय योजना में 960 ईडब्ल्यूएस फ्लैट नरेला के पॉकेट ए, ब्लॉक ए, सेक्टर-जी 7/जी-8। 8383 एलआइजी फ्लैट नरेला और वसंत कुंज। 579 एमआइजी और 448 एचआइजी फ्लैटों का वसंत कुंज में आवंटित किया जाएगा।

दो फ्लैटों को जोड़ सकेंगे
बैठक में नरेला जी-2 एवं जी- 8, रोहिणी सेक्टर 34 एवं 35, रामगढ़ कॉलोनी और सिरसपुर स्थित वन बेडरूम फ्लैटों के आवंटियों को दो इकाइयों को एक साथ मिलाने की अनुमति दी गई है। साथ ही आवंटी नजदीक पड़े खाली वन बेडरूम फ्लैट के लिए आवेदन कर सकेंगे।

नए साल की नई स्कीम
2019-20 के बजट में 19 नई योजनाएं और 15 नए आवासीय विकास कार्य आरम्भ किए जाएंगे। इसमें दिल्ली को विश्वस्तरीय शहर के रूप में विकसित करने की योजनाएं भी शामिल हैं। इसके तहत द्वारका में खाली पड़ी 200 हेक्टेयर जमीन को विकसित करने के लिए प्रस्ताव तैयार किया जा रहा है। साथ ही रोहिणी, सीबीडी शाहदरा और मयूर विहार में सामाजिक सांस्कृतिक केंद्रों का निर्माण किया जाएगा। नेहरू प्लेस, भीकाजी कामा प्लेस और वसंत लोक समाज सदनों की रेट्रोफिटिंग की जाएगी।

वॉकेबिलिटी योजना का ड्राफ्ट तैयार
दिल्ली में पैदल मार्ग की बाधाएं दूर करने के लिए वॉकेबिलिटी योजना का ड्राफ्ट तैयार किया गया हैं। इसमें फुटपाथ से अतिक्रमण हटाना, वेंडिंग जोन की पहचान, हरियाली को बढ़ावा, पैदल चलने योग्य पथ और सड़क पर फर्नीचरों और स्पष्ट संकेत चिन्हों को लगाने का काम किया जाएगा। आम जनता के सुझाव/आपत्ति के लिए ड्राफ्ट को तीन सप्ताह के लिए डीडीए की वेबसाइट पर डाला जाएगा।

शिवाजी मार्ग के ईडब्ल्यूएस फ्लैटों का भी मेंटेनेंस शुल्क घटा
बोर्ड बैठक में शिवाजी मार्ग स्थित ईडब्ल्यूएस फ्लैट आवंटियों को अब केवल 50 हजार रुपये मेंटेनेंस शुल्क जमा करना होगा। आवासीय योजना 2014 में शिवाजी मार्ग पर 772 ईडब्ल्यूएस फ्लैट आवंटित किए गए थे। उस समय फ्लैट की कीमत 6.9 लाख से 11.00 लाख रुपये थी, लेकिन अब 19.30 लाख रुपये के लिए मांग-पत्र जारी किए गए हैं। आवंटियों ने एक बार में 7.78 लाख रुपये का भुगतान करके कब्जा लेने की असमर्थता व्यक्त की, जिसके बाद यह निर्णय लिया गया।

6,968 करोड़ रुपये के बजट से संवरेगी दिल्ली
वित्तीय वर्ष 2019-20 के लिए लगभग 6,968 करोड़ रुपये का बजट व्यय निर्धारित किया गया है, जो वर्ष 2018-19 के संशोधित बजट अनुमान 5,651 करोड़ से 23.30 फीसद अधिक है। इनमें आवासों एवं दुकानों के निर्माण पर 3,022 करोड़ रुपये, भूमि के अधिग्रहण और बढ़े हुए 466 करोड़ रुपये मुआवजे का भुगतान, भूमि के विकास और 2,319 करोड़ रुपये, संस्थापना एवं विविध व्यय पर 1161 करोड़ रुपये खर्च किए जाएंगे। वहीं 2019-20 के लिए लगभग 5,477 करोड़ रुपये की बजट प्राप्तियां रखी गई हैं।

Posted By: Prateek Kumar

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप