नई दिल्ली, जेएनएन। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने छतरपुर में आयोजित एक जनसभा को संबोधित करते हुए कहा कि इस बार लोकसभा चुनाव में आम आदमी पार्टी (आप) के सातों सांसद जीते तो दो साल में दिल्ली को पूर्ण राज्य बनवा देंगे। केजरीवाल यहां 100 करोड़ रुपये से अधिक की लागत के विकास कार्यों का शिलान्यास करने आए थे। इसके तहत क्षेत्र में 12 कच्ची कॉलोनियों में 333 सड़कों का निर्माण, पानी की पाइप लाइन बिछाने, सीवर डालने और कच्ची कॉलोनियों को पक्का करने का कार्य किया जाएगा।

कच्‍ची कॉलोनियों में हो रहा विकास

मुख्यमंत्री ने कहा कि पहले की सरकारें इंडिया गेट के आसपास के इलाके को ही दिल्ली मानते थीं। लेकिन, हम कच्ची कॉलोनियों में जाकर विकास कार्य करवा रहे हैं। केजरीवाल ने कहा कि 15 साल कांग्रेस की सरकार रही, लकिन इन 12 गलियों में चार सड़कें भी नहीं बनीं। इस समय दिल्ली की सारी कच्ची कली कॉलोनियों को मिलाकर 10 हजार सड़कें बनाने का काम चल रहा है।

स्‍कूलों का हुआ कायापलट

सारे सरकारी स्कूलों का कायापलट हो रहा है। आज तक इस स्तर पर दिल्ली में कभी भी विकास नहीं हुआ है। 70 साल तक जो भी कांग्रेस, भाजपा की पार्टी आईं उन्होंने सिर्फ अपना घर भरा। हम दिल्ली में कोई भी काम करना चाहते हैं तो इसके लिए अनुमति केंद्र सरकार से लेनी पड़ती है क्योंकि दिल्ली पूर्ण राज्य नहीं है। 70 साल से दिल्ली के लोगों का अपमान किया जा रहा है। दिल्ली वाले जितना टैक्स देते हैं उसका 50 प्रतिशत दिल्ली सरकार को वापस मिलना चाहिए, लेकिन ऐसा नहीं हो रहा है। हमें अगर सही हिस्सा मिलने लगे तो हम सिंगापुर को भी पीछे छोड़ देंगे।

एक मार्च से उपवास 

वहीं, मंत्री सत्येंद्र जैन ने कहा कि केजरीवाल दिल्ली की जनता के लिए एक मार्च से उपवास करने जा रहे हैं। दिल्ली को पूर्ण राज्य बनाना है तो आप को जिताना होगा। वहीं आप के दक्षिणी दिल्ली लोकसभा क्षेत्र प्रभारी राघव चड्ढा ने कहा कि भाजपा के सातों सांसदों ने दिल्ली में पिछले पांच साल में कोई काम नहीं किया। उलटे केजरीवाल के हर काम में परेशानी उत्पन्न की। उनके कामों को रोका गया।

गोपाल राय ने चिट्ठी लिखकर पूछी राय

आम आदमी पार्टी (आप) के दिल्ली प्रदेश संयोजक एवं कैबिनेट मंत्री गोपाल राय ने चिट्ठी लिखकर भाजपा एवं कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्षों से दिल्ली को पूर्ण राज्य का दर्जा दिलाने पर उनका पक्ष पूछा है। चिट्ठी में भाजपा एवं कांग्रेस के नेताओं द्वारा अलग-अलग समय पर दिल्ली को पूर्ण राज्य का दर्जा दिलाने के लिए भाजपा और कांग्रेस के नेताओं द्वारा जो मांग उठाई गई थी उनका जिक्र किया गया है।

Posted By: Prateek Kumar

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप