गाजियाबाद, जेएनएन। प्रेमिका के कहने पर पति ने पत्नी को गोली मार दी। पत्नी को मरा समझकर ठिकाने लगाने के प्रयास में पति और उसकी प्रेमिका पुलिस के हत्थे चढ़ गए। पत्नी के परिजनों ने आरोपित पति व उसकी प्रेमिका के खिलाफ जानलेवा हमले की धाराओं में रिपोर्ट दर्ज कराई है। उधर, पत्नी को गंभीर अवस्था में गाजियाबाद के निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया है, जहां उसकी हालत अब खतरे से बाहर है।

बच्चे को एम्स में दिखाने के नाम पर गांव से ले आया शामली जिले के थाना आदर्श मंडी स्थित कसेरवा कलां गांव निवासी सुनील कुमार ने अपनी बेटी शिवानी की शादी बागपत जिले के दोघट थाना क्षेत्र के गडैबरा (गहंडपुरा) निवासी यशवंत राणा उर्फ सन्नी से करीब ढाई साल पहले की थी। यशवंत का गाजियाबाद स्थित एक निजी कॉलेज में ट्रांसपोर्ट का काम है।

बुधवार सुबह वह अपने गांव स्थित घर से पत्नी शिवानी व दो साल के बीमार बच्चे को लेकर आया था। गांव पर उसने बताया था कि उसे बच्चे को दिल्ली स्थित एम्स अस्पताल में दिखाना है। पत्‍‌नी शिवानी और बच्चे को लेकर गाजियाबाद स्थित कमरे पर पहुंचने पर उसने कहा कि वह कॉलेज जा रहा है। दोपहर बाद वहां से लौटकर बेटे को दिखाने के लिए दिल्ली चलेंगे।

परिजनों के मुताबिक, कॉलेज से वापस लौटकर सन्नी ने अपनी पत्नी से कहा कि एम्स में बुधवार की जगह बृहस्पतिवार को नंबर आएगा। इसलिए वहां का प्रोग्राम स्थगित करते हैं और मुरादनगर तक घूमने के लिए चलना है। मुरादनगर बस अड्डे पर कार में बैठी प्रेमिका पांच बजे के आसपास वह शिवानी व बेटे को लेकर कार से मुरादनगर की तरफ चल दिया।

मुरादनगर में बस अड्डे पर उन्हें अंशुल नाम की युवती मिली, जो कार में बैठ गई। पूछने पर सन्नी ने उसे अपना परिचित बताया। अंधेरा होने तक सन्नी शिवानी को मोदीनगर व निवाड़ी गंगनहर के रास्ते पर घुमाता रहा। अंधेरा होते ही गंगनहर पटरी मार्ग पर पाइप फैक्ट्री के पास उसने तमंचे से पत्नी शिवानी को गोली मार दी। आरोप है कि अंशुल ने शिवानी के हाथ पकड़ लिया था।

गोली सीने से सटाकर मारी गई, लेकिन जल्दबाजी में गोली उसके गले के पास लगी। शिवानी ने किया मृत होने का नाटक, पुलिस को देखकर चिल्लाई खुद को घिरा देख शिवानी ने मृत होने का नाटक कर लिया। उसे मरा समझकर दोनों शिवानी के शव को ठिकाने लगाने की योजना बनाने लगे। उसे गंगनहर में डालने की फिराक में वे एकांत स्थान को तलाशने लगे।

इसी दौरान रात्रि गश्त में तैनात पुलिसकर्मियों ने कार को संदिग्ध हालत में देखा। पुलिस को देख शिवानी भी जोर से चिल्लाई। इसके बाद पुलिस ने उनका पीछा किया। पुलिस को देखकर सन्नी ने कार दौड़ा दी। उनके पीछे पुलिस थी। जब सन्नी को आभास हुआ कि शिवानी मरी नहीं है तो उसने अंशुल से शिवानी का गला दबाने को कहा। आरोप है कि अंशुल ने शिवानी का कार में रखे छोटे तकिए से गलाकर दबाकर दोबारा हत्या करने की कोशिश की। लेकिन पुलिस पीछे होने के कारण वह उसकी हत्या करने में विफल ही। इस दौरान सन्नी कार को वहां से भगाने की फिराक में था। वर्धमानपुरम चौकी के पास पुलिस ने दबोचा पुलिस ने हाईवे पर मुरादनगर में वर्धमानपुरम पुलिस चौकी के निकट उन्हें पकड़ लिया। कार के अंदर का ²श्य देख पुलिस को पूरा खेल समझ आ गया। कार के अंदर से तमंचा, दो गोलियां व खाली खोखा भी बरामद कर लिया गया। पुलिस ने मुरादनगर थाने लाकर सन्नी व उसकी प्रेमिका से घटना के बारे में कड़ाई से पूछताछ की। वहीं, शिवानी को गंभीर हालत में गाजियाबाद के सरकारी अस्पताल में भर्ती कराया। इसकी सूचना परिजनों को दी गई। शिवानी के परिजनों ने बाद में उसे गाजियाबाद के ही शिवम अस्पताल में भर्ती कराया। अस्पताल के डाक्टरों ने बृहस्पतिवार दोपहर को शिवानी का ऑपरेशन कर गोली को सफलतापूर्वक बाहर निकाला। अब उसकी हालत खतरे से बाहर है। उधर, मामले में शिवानी के पिता ने सन्नी व उसकी प्रेमिका अंशुल निवासी रेलवे रोड मुरादनगर के खिलाफ जानलेवा हमले की धाराओं में रिपोर्ट दर्ज कराई है।

कॉलेज में हुई दोनों की दोस्ती जिस कॉलेज में सन्नी का ट्रांसपोर्ट का काम है, उसमें ही अंशुल भी नौकरी करती थी। वहीं पर करीब छह माह पहले दोनों में दोस्ती हुई थी। दोनों ने पत्नी व बेटे को रास्ते से हटाने की साजिश बनाई थी। अंशुल ने ही सन्नी से शिवानी की हत्या कर उसे अपने रास्ते से हटाने के लिए कहा था। शिवानी के पिता ने बताया कि सन्नी और उसकी प्रेमिका घटना को लूट के बाद अपहरण व हत्या का रूप देना चाहते थे। कार के शीशों में गोली मारकर वे लूट के बाद अपहरण का रूप देने की योजना बना रहे थे।

इस बात को खुद उनकी बेटी ने सुना था। पुलिस को बताया भगवान शिवानी के पिता सुनील ने बताया कि यदि पुलिस अपनी तत्परता नहीं दिखाती तो शायद उनकी बेटी आज इस दुनिया में नहीं होती। पुलिस की मुस्तैदी के कारण इस घटना का राजफाश हुआ और आरोपित पकड़े गए। अन्यथा उनकी बेटी की लाश भी नहीं मिलती। सुनील ने पुलिसकर्मियों की तत्परता के लिए आभार व्यक्त किया है। दिनभर एक दूसरे पर टालती रही पुलिस दिनभर आरोपित मुरादनगर पुलिस की हिरासत में रहे।

इस दौरान सीओ सदर मुरादनगर पहुंचे और इस घटना के संबंध में आरोपितों से पूछताछ की। निवाड़ी और मुरादनगर पुलिस एक दूसरे पर रिपोर्ट दर्ज करने को टालते रहे। बाद में अधिकारियों के हस्तक्षेप पर मामले में निवाड़ी पुलिस ने रिपोर्ट दर्ज की।

प्रेमिका अंशुल बोली, सन्नी को आजमाना चाहती थी
पुलिस हिरासत में आरोपित अंशुल ने बताया कि उसने आजमाने के लिए सन्नी से कहा था कि यदि वह उसे सच्चा प्रेम करता है तो अपनी पत्नी को गोली मारकर दिखाए। उसे विश्वास नहीं था कि वह इतना कहने पर ही अपनी पत्नी को गोली मार देगा। जबकि, सन्नी ने कहा था कि वह उसे इतना प्रेम करता है कि उसके सामने ही अपनी पत्नी को गोली उसकी हत्या तक भी कर सकता है

केपी मिश्र (सीओ, मोदीनगर) ने बताया कि नामजद दोनों आरोपित पुलिस गिरफ्त में हैं। कार से घटना में प्रयुक्त हथियार, खाली खोखे आदि साक्ष्य भी बरामद कर लिये गए हैं। दोनों आरोपितों को कोर्ट में पेश किया जाएगा। उनसे व्यापक पूछताछ की जा रही है।