गाजियाबाद [जेएनएन]। भाजपा नेता गजेंद्र उर्फ गज्जी भाटी हत्याकांड में सोमवार को अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश-5 जगदीश प्रसाद की अदालत में सुनवाई हुई। इस दौरान हत्यारोपित साहिबाबाद के पूर्व विधायक अमरपाल शर्मा ने अधिवक्ता के माध्यम से अदालत में प्रार्थना पत्र देकर घटना के समय की सीसीटीवी फुटेज व गाड़ी के संबंध में तकनीकी रूप से लिए गए फोटोग्राफ की मांग की।

इसके साथ ही हत्यारोपित पूर्व विधायक ने वादी द्वारा विवेचक को उपलब्ध कराए गए फोटो व सीडी की प्रति की मुहैया कराने की बात प्रार्थना पत्र के जरिए अदालत से कही। यह जानकारी सहायक जिला शासकीय अधिवक्ता प्रमोद तंवर ने दी।

दस्तावेज अदालत में मुहैया कराने के आदेश

जिला शासकीय अधिवक्ता प्रमोद तंवर ने बताया कि अदालत ने पुलिस को अगली सुनवाई पर सीसीटीवी फुटेज, फोटोग्राफी व मांगे गए उपरोक्त दस्तावेज अदालत में मुहैया कराने के आदेश दिए हैं। इस मामले में अगली को 19 मार्च की तारीख नियत की गई है।

सुपारी देकर गज्जी की हत्या

सितंबर 2017 में खोड़ा में भाजपा नेता गजेंद्र उर्फ गज्जी भाटी की गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। मामले में पुलिस ने नरेंद्र फौजी व राजू पहलवान को गिरफ्तार कर हत्याकांड का पर्दाफाश किया था। पूर्व विधायक अमरपाल शर्मा पर राजनीतिक रंजिश में सुपारी देकर गज्जी की हत्या कराने का आरोप है। अभी तीनों जेल में बंद हैं। 

जानें कब क्या हुआ

1. पुलिस ने 11 सितंबर को शूटर नरेंद्र फौजी को गिरफ्तार किया।

2. नरेंद्र ने अमरपाल शर्मा पर हत्या कराने का आरोप लगाया। इसके बाद से अमरपाल शर्मा फरार हो गया।

3. 21 सितंबर को पुलिस ने दूसरे शूटर राजू पहलवान को भी गिरफ्तार कर लिया। उसने भी अमरपाल शर्मा पर 10 लाख रुपये की सुपारी देकर गजेंद्र भाटी की हत्या कराने का आरोप लगाया।

4. 25 हजार रुपये का इनाम रखा गया था। 

5. 11 अक्टूबर को अमरपाल शर्मा को कोर्ट में आत्मसमर्पण करना था। उसने आत्मसमर्पण नहीं किया। इसके बाद उस पर 25 हजार रुपये का इनाम रखा गया।

6. 17 अक्टूबर को अमरपाल शर्मा ने सीजीएम कोर्ट में आत्म समर्पण किया।

यह भी पढ़ें: मोबाइल पर भाजपा नेता को मिला प्रदेश, 'ओसामा इज अवर गॉड, ज्वाइन हैंडस विथ टेररिज्म'

By Amit Mishra