जागरण संवाददाता, पूर्वी दिल्ली : झिलमिल मेट्रो स्टेशन को बने करीब नौ साल बीत गए लेकिन आज भी झिलमिल से यह सीधे नहीं जुड़ पाया। यहां के लोगों को मेट्रो स्टेशन जाने के लिए दो से तीन किलोमीटर घुमकर जाना पड़ता है या फिर जान जोखिम में डाल कर झिलमिल के बीचोंबीच से रेलवे लाइन को पार करते हैं। इससे दो सालों में तीन लोगों को जान जा चुकी है। मुख्यमंत्री अर¨वद केजरीवाल और उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने रेलवे लाइन के नीचे से अंडरपास बनाने के कार्य का शिलान्यास किया। स्थानीय विधायक और विधानसभा अध्यक्ष राम निवास गोयल ने बताया कि यह अंडरपास करीब पौने सात करोड़ रुपये की लागत से बनेगा।

कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ने भाजपा पर निशाना साधा। कहा कि चुनाव से पहले एक यूनिवर्सिटी का शिलान्यास किया जिसका काम आजतक न शुरू हुआ। दिल्ली सरकार ने यूनिवर्सिटी के लिए दो सौ करोड़ रुपये जारी किए हैं। उप मुख्यमंत्री ने भी बताया कि स्वास्थ्य और शिक्षा के क्षेत्र में दिल्ली और राज्यों से काफी आगे निकल चुकी है। विधानसभा अध्यक्ष राम निवास गोयल ने बताया कि उन्होंने 2015 में इसका प्रस्ताव भेजा था। दो करोड़ रुपये एडवांस में दिला दिए। रेलवे ने करीब एक साल में प्रोजेक्ट रिपोर्ट तैयार की। इसके बाद करीब चार करोड़ रुपये और जारी किए। इस तरह पीडब्लूडी ने छह करोड़ रुपये दिए हैं। अंडरपास के दोनों तरफ से पीडब्लूडी करीब 75 लाख रुपये की लागत से सड़क का निर्माण करेगी। उन्होंने बताया कि स्वतंत्रता दिवस से पहले इस कार्य को पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है। उन्होंने बताया कि अंडरपास में संप वेल भी बनाया जाएगा। राम निवास गोयल ने कहा कि इस योजना से झिलमिल सहित अन्य इलाके के लोगों को काफी फायदा होगा।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस