लंदन, एएफपी। जेसन होल्डर की अगुआई वाली वेस्टइंडीज की टीम तेज गेंदबाजों के दम पर गुरुवार को पांच बार की चैंपियन ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ उतरेगी तो उसका इरादा विश्व कप में अपना खोया गौरव वापस पाने का होगा।

दो बार की चैंपियन वेस्टइंडीज टीम ने पहले मैच में पाकिस्तान को सिर्फ 105 रन पर आउट करके सात विकेट से जीत दर्ज की। ओशाने थॉमस ने 27 रन देकर चार विकेट लिए, जबकि आंद्रे रसेल, शेल्डन कॉटरेल और कप्तान होल्डर से उन्हें पूरा सहयोग मिला। वेस्टइंडीज ने विश्व कप 1975 के फाइनल में ऑस्ट्रेलिया को हराया था और उस टीम में चार तेज गेंदबाज थे। इसके चार साल बाद लॉ‌र्ड्स पर फाइनल में वेस्टइंडीज ने इंग्लैंड को हराकर खिताब बरकरार रखा। उस टीम में एंडी रॉब‌र्ट्स, माइकल होल्डिंग, कोलिन क्रोफ्ट और जोएल गार्नर थे। मौजूदा टीम में उस दर्जे के तेज गेंदबाज नहीं हैं, लेकिन केमार रोच और शेनॉन गेब्रियल के बिना पाकिस्तान को सस्ते में समेटकर उसके गेंदबाजों ने साबित कर दिया कि उनमें कितना दम है। वे विश्व कप में भले ही क्वालीफाइंग दौर से गुजरकर आए हों, लेकिन अपना दिन होने पर किसी भी टीम को हरा सकते हैं।

दूसरी ओर, ऑस्ट्रेलिया ने पहले मैच में अफगानिस्तान को सात विकेट से हराया, लेकिन इस मैच में उनके सामने चुनौती कड़ी होगी। पिछले तीन में से दो टी-20 विश्व कप जीत चुकी वेस्टइंडीज टीम के लिए थॉमस ने अभ्यास मैच में डेविड वार्नर को सस्ते में आउट किया था। वेस्टइंडीज की एक कमजोरी यह है कि बाउंसर जैसे हथियार को वे बार बार इस्तेमाल करते हैं, जबकि एक साल के प्रतिबंध के बाद लौटे वार्नर और स्टीव स्मिथ शॉर्ट गेंदों को झेलने में माहिर हैं। ऑस्ट्रेलिया के पास मिशेल स्टार्क और पैट कमिंस के रूप में बेहतरीन तेज गेंदबाज हैं।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Sanjay Savern

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप